संदेश

सितंबर 19, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

इलेक्ट्रोपेन्योर पार्क ने इलेक्ट्रॉनिक और हार्डवेयर स्टार्टअप्स से प्रस्ताव मंगवाए

चित्र
नई दिल्ली : इलेक्ट्रोपेन्योर पार्क ने देश भर से स्टार्टअप्स से अपने इनक्यूबेशन और वर्चुअल एक्सेलरेशन प्रोग्राम के लिए प्रस्ताव मंगवाए हैं। इसके लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 सितंबर है। दिल्ली स्थित यह इनक्यूबेशन सेंटर एसटीपीआई का एक प्रोजेक्ट है और यह इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौदयोगिकी मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित है। ईएसडीएम क्षेत्र में उभरती हुई जरूरतों में इसका स्थान शीर्ष पर है। इलेक्ट्रोपेन्योर पार्क ने अप्रैल 2016 से लेकर पिछले छह चरण में 40 स्टार्टअप्स को मदद दी है, जिसमें से 25 को उभरने और आगे बढ़ने का मौका मिला है। जबकि सात को पूर्व पोषित सुविधा यानी शुरुआत करने में मदद दी गई है। इस पहल के तहत कार्यस्थल मुहैया कराने के साथ चयनित उद्यमियों को हर सुविधाओं से परिपूर्ण (स्टेट ऑफ आर्ट) विश्वस्तरीय मानक वाली आरएफ  और  बेहतरीन प्रयोगशालाओं में काम करने की सुविधा मिलती है, क्षेत्र के संबंधित उद्योग एवं शैक्षणिक विशेषज्ञों से मार्गदर्शन मिलता है, बेहतर आपूर्ति व्यवस्था और इको-सिस्टम मुहैया कराया जाता है जिससे जुड़ी दर्जनों सुविधाएं जैसे कराधान, विधि, वित्त, अकाउंटिंग, पेटेंट की खो

दलितों के उत्पीड़न के खिलाफ आवाज़ उठाने वाले पूर्वांचल सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष धीरेन्द्र प्रताप गिरफ्तार

चित्र
लखनऊ . पूर्वांचल सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्वांचल में दलित उत्पीड़न के खिलाफ सक्रिय दलित कार्यकर्ता धीरेन्द्र प्रताप और उनके भाई योगेंद्र प्रताप को उ. प्र, पुलिस ने उठा लिया। रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने कहा कि वरिष्ठ बुद्धिजीवी सिद्धार्थ रामू ने बताया है कि जब उनके पिता रामगुलाम भारती कैंट थाना गए और अपने बेटों के बारे में पूछा कि वे कहां हैं और उन्हें कहा ले जाया गया है, तो पुलिस का कहना है कि हमें नहीं पता है पुलिस ने उन लोगों को उठाया है कि नहीं? और वे कहां हैं। परिवार और संगठन के सदस्यों को आशंका है कि पुलिस उनका इनकाउंटर कर सकती है। पूर्वांचल सेना का गठन 2006 में हुआ था। तब से यह संगठन दलितों के उत्पीड़न के खिलाफ कार्य कर रहा है। इसके छात्र विंग का नाम असुर। सिद्धार्थ रामू ने असुर के गोरखपुर जिला अध्यक्ष मंजेश से बात की तो उन्होंने बताया कि पुलिस कुछ भी बता नहीं रही है। गौरतलब है कि चंद दिनों पहले गोरखपुर के गांव कुसमौल में प्रधान विवेकशाही द्वारा भावी प्रधान प्रत्याशी सोनू जाटव को भद्दी-भद्दी गालियां दी गई थीं। इसके खिलाफ पूर्वांचल सेना और धीरेंद्र ने मोर्चा खोल दिया

इंफीनिक्स का नोट 7 लॉन्च; जबरदस्त एक्सेप्शनल डिजाइन,सुपीरियर कैमरा

चित्र
इंफीनिक्स का नोट 7 लॉन्च; एक्सेप्शनल डिजाइन,सुपीरियर कैमरा,पावरफुल परफॉर्मंस और कीमत सिर्फ 11,499 रुपए में यह नया डिवाइस एस्पिरेशन, इनोवेशन और कन्वीनियंस को एक साथ लाने में ब्रांड की लीडरशिप को मजबूती देगा।  नई दिल्ली : अपनी लोकप्रिय हॉट 9 सीरीज़ की शानदार सफलता के बाद ट्रैंशन ग्रुप का प्रीमियम स्मार्टफोन ब्रांड इंफीनिक्स सीजन का बहुप्रतीक्षित ऑफर लॉन्च करने को पूरी तरह तैयार है, और यह नई पेशकश है- नोट 7। इस नए फोन को तीन रंगों में बाजार में उतारा गया है- एथर ब्लैक, फ़ॉरेस्ट ग्रीन और बोलीविया ब्लू। इसकी कीमत 11,499 रुपए होगी और यह स्मार्टफोन फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध होंगे। इस फोन की पोजिशनिंग एस्पिरेशनल श्रेणी में होगी, लेकिन किफायती मूल्य के साथ। नोट 7 के मुख्य फीचर्स में 48 एमपी एआई क्वाड रियर कैमरा, एचडी-रिजॉल्यूशन के साथ बेजल-लेस 6.95” पिन-होल डिस्प्ले, 18एमपी फास्ट चार्जर के साथ 16एमपी इन-डिस्प्ले सेल्फी, 5,000 एमएएच बैटरी शामिल है। यह ऑक्टा-कोर मीडियाटेक हेलियो जी70 प्रोसेसर से संचालित है जिसमें 4 जीबी रैम / 64 जीबी डीडीआर4 रैम है और यह एंड्रॉइड 10 एक्सओएस 6.1 डॉल्फिन पर काम करता

संस्कृत भाषा से हमारी संस्कृति,संस्कार और सभ्यता जुड़ी है

चित्र
नयी दिल्ली - लोग भिन्न भिन्न तरीकों से अपना जन्म दिवस मनाते हैं। एडवोकेट विजय कुमार छिब्बर ने अपना जन्म दिवस  विशिष्ट रुप से मनाया । उन्होंने जन्म-दिवस के अवसर पर ऑनलाइन- संस्कृत -लेखन- प्रतियोगिता का आयोजन किया इस प्रतियोगिता में भारत के 15 राज्यों के लोगों ने भाग लिया। गुजरात से संस्कृत प्रचारक जगदीश डाभी आयोजनकर्ता थे,और निर्णायक महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय हरियाणा के असिस्टेंट प्रोफेसर एवं ज्योतिषाचार्य डॉ.नवीन शर्मा थे। इस प्रतियोगिता में प्रथम श्रेष्ठ तीन लेख भेजने वालों को विजय छिब्बर द्वारा सम्मानित किया गया। इस प्रतियोगिता में  प्रथम-सुनेहा सिंह ( उत्तरप्रदेश),द्वितीय -सुमन्तपात्र (पश्चिम बंगाल),तृतीय- प्रकाश तिवारी (बिहार) आए । इस अवसर विजय छिब्बर ने कहा कि वर्तमान समय में संस्कृत की बहुत आवश्यकता है। लोग संस्कृत से अधिक से अधिक जुड़ें। संस्कृत भाषा से हमारी संस्कृति, संस्कार और सभ्यता जुड़ी है। संस्कृत लेखन प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य समसामयिक आधुनिक संदर्भ में संस्कृत भाषा में साहित्यिक सृजन को प्रोत्साहित करना है।