संदेश

मार्च 14, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एप्पल और Google के साथ कॉल फॉर को-ऑपरेशन के मामले में ToTok ने कहा

चित्र
नयी दिल्ली -ToTok का गठन दुनिया में लोगों को संचार करना तथा दोस्तों, साथियों एवं परिवारों के साथ कनेक्ट होना आसान बनाने के लिए किया गया था। हाल ही में मीडिया के कुछ वर्गों में भ्रामक एवं त्रुटिपूर्ण आरोप लगाए जाने के बावजूद,ToTok को करोड़ों यूज़र्स का विश्वास व सहयोग प्राप्त है, जिसमें 2 करोड़ से ज्यादा वो लोग शामिल हैं, जो नियमित तौर पर इस ऐप का उपयोग करते हैं। हमारे यूज़र्स एवं दुनिया में हर व्यक्ति के लिए हमारा संदेश है: ToTok अभी भी लगातार मजबूत हो रहा है।  हम ToTok को एप्पल ऐप स्टोर एवं गूगल प्ले स्टोर से हटाए जाने पर सहमत नहीं, फिर भी हमने एप्पल एवं गूगल द्वारा बताया गया हर विशेष परिवर्तन लागू किया है। हम तत्परता के साथ इन दोनों कंपनियों के साथ काम कर रहे हैं ताकि ToTok को ऐप स्टोर में सदैव के लिए वापस लाया जा सके। हमारी कंपनी एप्पल एवं गूगल के साथ कॉल, ईमेल, सोशल मीडिया पर संपर्क के माध्यम से बातचीत करने का प्रयास कर रही है और दोनों कंपनियों को आबू धाबी में ToTok के ऑफिस में आने के लिए आमंत्रित कर रही हैं। दुख की बात यह है कि 7 जनवरी, 2020 से एप्पल से एवं 15 फरवरी, 2020 के बाद से

घर को दक्षिण के मंदिरों की भव्यता जैसा रूप देने के लिए द्रविड़ रेंज पेश

चित्र
द्रविड़ मंदिरों की साज-सज्जा 16वीं शताब्दी में अपने ऊँची मीनारों या वामनों, विस्तृत मूर्ति कलाओं और बारीक़ शिलालेखों के साथ सृजनात्मकता के अपने शिखर पर पहुँची थी जो सब मिलकर एक बहुआयामी परतदार रूप प्रदान करते थे। मंदिर की वास्तुकला और सजावट की चोला से लेकर चेरा और यहाँ तक ​​कि विजयनगर साम्राज्य जैसे कई राज्यों और साम्राज्यों द्वारा नक़ल की गई थी। नयी दिल्ली : भारत की एक प्रमुख पर्यावरण के अनुकूल पेंट् उत्पादक कंपनी और 14 बिलियन अमरीकी डॉलर के जेएसडब्ल्यू ग्रुप का एक अंग, जेएसडब्ल्यू पेंट्स ने घर के अंदरूनी और बाहरी हिस्सों के लिए अपनी अनूठी एक्स्प्लोरर श्रृंखला - द्रविड़ को पेश किया है। दक्षिण भारत के प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों (जैसे तमिलनाडु में बृहदेश्वर, मुरुगन और अन्नामलार मंदिरों; कर्नाटक में डोड्डबसप्पा, विजया विट्ठला, केशव मंदिर), द्रविड़ श्रृंखला धरती के पीले रंग की 12 विशिष्ट क़िस्मों का एक संग्रह है। इस रेंज को ख़ास तौर पर घर के अंदरूनी और बाहरी हिस्सों के लिए तैयार किया गया है और यह इस कंपनी की गर्मियों  के मौसम की प्रस्तुतियों का एक हिस्सा है। द्रविड़ की विभिन्न क़िस्मों को प्रस

बिहार:किसानों को फसल क्षतिपूर्ति 23 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन करने का मौका

चित्र
पटना : बिहार सरकार मौसम की मार के वजह से बेहाल किसानों को राहत देने के लिए तैयार है। बिहार सरकार के कृषि विभाग के द्वारा एक रिपोर्ट तैयार की गई है जिसमें बताया गया है कि फरवरी-मार्च में असमय बारिश आंधी और ओले के कारण 11 जिलों के किसानों की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गया है। इन किसानों को फसल क्षतिपूर्ति दिया जाए। मौसम की मार से बेजार किसानों को सरकार ने 23 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन करने का मौका दिया है। कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार के अनुसार मौसम की चपेट में आए फसलों की बर्बादी की क्षतिपूर्ति करने को सरकार तैयार है  कृषि विभाग के रिपोर्ट के मुताबिक जिन्हें 11 जिलों में ज्यादा बर्बादी हुई है वे हैं, भागलपुर ,बक्सर, जहानाबाद ,औरंगाबाद, गया, मुजफ्फरपुर, कैमूर, पटना, समस्तीपुर, पूर्वी चंपारण एवं वैशाली। फसल क्षतिपूर्ति के लिए अब तक डेढ़ लाख किसानों ने ऑनलाइन आवेदन भी कर दिया है ,लेकिन जिन किसानों ने अब तक आवेदन नहीं किया है उनके लिए 23 मार्च तक मौका मुहैया कराया गया है बताया गया है कि सिंचित क्षेत्र के लिए प्रति हेक्टेयर 13 हजार 5 सौ और असिंचित क्षेत्र में 68 सौ रुपये की दर से फसल क्षतिपूर्ति दी

राजस्थान के स्कूल,कॉलेज,जिम,सिनेमाघर 30 मार्च तक बंद

चित्र
जयपुर । मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए ऐहतियात के तौर पर प्रदेश में सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर, जिम, सिनेमाघर एवं थियेटर आदि को 30 मार्च तक बंद रखने के निर्देश दिए हैं। इस अवधि में आयोजित होने वाले म्यूजिक इन द पार्क तथा नाटक मंचन जैसे कार्यक्रम भी स्थगित रहेंगे।  मुख्यमंत्री निवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक में कोरोना की स्थिति की समीक्षा बैठक के दौरान यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा संयुक्त राष्ट्र द्वारा कोरोना संक्रमण को महामारी घोषित करने तथा केन्द्र सरकार की ओर से जारी की गई एडवाइजरी के क्रम में ऐहतियात के तौर पर संक्रमण से बचाव के लिए यह निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री नेे आमजन को कोरोना के विषय में भयभीत नहीं होने की सलाह दी है और लोगों से अपील की है कि वे भीड़-भाड़ वाले स्थानों से बचें तथा आवश्यकता होने पर ही सार्वजनिक परिवहन का प्रयोग करें। गहलोत ने कहा कि स्कूल और कॉलेजों में चल रही बोर्ड परीक्षाओं पर कोई रोक नहीं होगी। साथ ही, मेडिकल तथा नर्सिंग कॉलेज में कार्य संचालन सामान्य रूप से जारी रहेगा। उन्होंने