संदेश

जनवरी 30, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ( शिक्षा विभाग) ने बच्चों को अनमोल तोहफा दिया

चित्र

जे जे टैगोर गार्डन विद्यालय परिसर में विज्ञान संग्रहालय की स्थापना

चित्र
नयी दिल्ली - दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ( शिक्षा विभाग) पश्चिमी क्षेत्र ने अपने बच्चों को एक अनमोल तोहफा दिया है। जे जे टैगोर गार्डन विद्यालय परिसर में विज्ञान संग्रहालय की स्थापना की गई है ,इस विज्ञान संग्रहालय में भिन्न- भिन्न प्रकार के डायनासोर लगाये गये हैं ताकि बच्चे मनोरंजन के साथ-साथ पृकृति को नज़दीक से तथा विज्ञान के प्रति रुचि विकसित कर सके और इतिहास को दिलचस्पी के साथ जान सकें । इस अवसर पर नजदीकी स्कूलों के बच्चों ने किया भ्रमण , इनकी कौतुहलता , जिज्ञासा व खुशी इनके चेहरों से साफ झलक रही थी । आगामी समय मे ये संग्रहालय विभाग के बच्चों के अतिरिक्त अन्य सभी बच्चों के लिये प्रेरणास्त्रोत व भ्रमणस्थल बनेगा ऐसा प्रतीत होता है।  

दिल्ली में लिटिल बडी प्रीस्कूल,ब्रिटेन आधारित एक इकाई

चित्र
लिटिल बडी प्रीस्कूल प्राइवेट लिमिटेड जो देश की कॉन कैपिटल से बाहर है, एक ऐसी उद्यम है जो स्कूली शिक्षा पूर्व और बच्चों के विकास पर केंद्रित है। वे फ्रेंचाइजी मॉडल के रूप में संचालित हैं, जिसमें शिक्षा, शिक्षा और विकास, पाठ्यक्रम वितरण, फ्रेंचाइजी के लिए प्रचालनात्मक और कार्यात्मक मूल संरचना का विकास, तैयार और अनुश्रवण ब्रांड द्वारा किया जाता है, जिससे प्री-स्कूलीकरण के लिए बिना किसी छेड़छाड़ के शैक्षिक और विकास वितरण मॉडल को सुरक्षा के उच्चतम मानकों के साथ सुनिश्चित किया जाता है। नई दिल्ली । लिटिल बडी प्रीस्कूल ने लंदन, ब्रिटेन में स्थापित पंजीकृत कार्यालय तथा अपने कार्पोरेट कार्यालय हैदराबाद, तेलंगाना के साथ अब दिल्ली में अपना विशिष्ट फ्रेंचाइजी मॉडल शुरू किया है। ब्रांड की शुरुआत में कंपनी के प्रोमोटर ने दिल्ली, ऊ.प्र., एवं एन.सी.आर. क्षेत्र के लिए मास्टर फ्रेंचाइजी के साथ अपने नए लोगो का अनावरण किया और उनके मास्कोट रुडो को भी पेश किया। इस कार्यक्रम अनावरण सुनील दीवान और डॉ मंजू दीवान द्वारा किया गया। लिटिल बडी प्रीस्कूल में अपनाई गई शिक्षा की धारणा और दृष्टिकोण पर प्रकाश डालते ह

Poet,Author KAVITA MUKHAR Exclusive Interview

चित्र

जी-5 ने विश्व स्तरीय ऑनलाइन शिक्षा उपलब्ध कराने के मकसद से एडुआरा के साथ साझेदारी की  

चित्र
इस साझेदारी के बाद पारंपरिक शिक्षण प्रणाली का परिदृश्य पूरी तरह बदल जाएगा और कक्षा 6 से 12 वीं के छात्रों को उनके एजुकेशन बोर्ड के पाठ्यक्रम के अनुसार हिंदी और अंग्रेजी में कॉन्सेप्ट आधारित शिक्षण सामग्री प्रस्तुत की जाएगी। शिक्षण सामग्री प्रत्येक विषय पर आधारित होगी और इसमें कॉन्सेप्ट को समझाने वाले अभिनव और इंटरैक्टिव तरीकों का उपयोग किया जाएगा। अध्ययन सामग्री विभिन्न एजुकेशन बोर्ड के अनुरूप होगी, जिनमें आईसीएसई, सीबीएसई और सात राज्यों (महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु) के शिक्षा बोर्ड भी शामिल हैं। नयी दिल्ली -  देश के सबसे बड़े ‘कॉनटेक‘ ब्रांड जी-5 ने प्रीमियर डिजिटल एजुकेशन प्लेटफॉर्म एडुआरा के साथ एक विशेष साझेदारी की घोषणा की। ओवर द टॉप कंटेंट के भारतीय उपभोक्ताओं के लिए कंटेंट परिदृश्य को नए सिरे से परिभाषित करने और 100 से अधिक मूल कार्यक्रम, सिनेमा, समाचार और अपनी नई जेमिफिकेशन सामग्री की एक सीरीज के साथ लाखों लोगों का मनोरंजन करने के बाद जी-5 ने देशभर में अपने दर्शकों तक उद्देश्यपूर्ण सामग्री पहुंचाने के लिहाज से एक मजबूत कदम उठाया

सरकार आम बजट 2020 में इंश्योरेंस के लिए सैंडबॉक्स नीति अपनाए

चित्र
नयी दिल्ली - पॉलिसीबाज़ार.कॉम के चीफ बिजनेस ऑफिसर एवं सह-संस्थापक तरुण माथुर ने बताया कि देश की सिर्फ 8% जनसंख्या के पास टर्म, हेल्थ जैसा किसी एक प्रकार का इंश्योरेंस है, और प्योर प्रोटेक्शन वाले इंश्योरेंसधारकों की संख्या काफी कम है। उन्होंने कहा कि , “ हमारे यहां यूरोप की तरह एक सामाजिक सुरक्षा प्रणाली उपलब्ध नहीं है , जिसमें सरकार अपने नागरिकों के रिटायरमेंट के बाद उनकी सभी ज़रूरतों का ख्याल रखती है। बल्कि , हमारे देश में नागरिकों को सिर्फ इंश्योरेंस के रूप में ही सामाजिक सुरक्षा मिलती है। इसलिए , सरकार के लिए यह ज़रूरी होगा कि आम बजट 2020 में इंश्योरेंस के लिए सैंडबॉक्स नीति अपनाए और देश को सामाजिक रूप से सुरक्षित बनाने वाले लोगों को प्रोत्साहन दिया जाए।”

कैट देश भर के व्यापारियों की जनसख्यां का रजिस्टर बनाएगा

चित्र
रिटेल व्यापार के लिए न कोई नीति है अथवा न कोई मंत्रालय है ! इस डेटा के तैयार होने के बाद कैट बेहद मजबूती से पृथक रूप से एक मंत्रालय गठित करने की मांग करेगा! नयी दिल्ली - नेशनल पापुलेशन रजिस्टर की तर्ज़ पर कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) देश भर के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के व्यापारियों एवं उनके यहाँ कार्यरत कर्मचारियों का एक डेटा तैयार करेगा जिससे देश भर के व्यापारियों की बुनियादी समस्याओं को बेहतर तरीके से सरकार के सामने रखा जाए और सरकार उस डेटा के आधार पर व्यापारी वर्ग के लिए नीतियां बना सके ! कैट ने यह अभियान केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पियूष गोयल के उस सुझाव पर तैयार करने का निर्णय लिया है जो उन्होंने 27 जनवरी को दिल्ली में कैट द्वारा आयोजित एक व्यापारी सम्मेलन में दिया था ! कैट ने माना है कि  गोयल का सुझाव बेहद तार्किक है और देश के रिटेल व्यापार के लिए केंद्र एवं अन्य राज्यों में सरकारों से सुविधाओं के अधिकार को मांगने एवं व्यापार के लिए समर्थन नीति बनवाने में इस डेटा का बहुत महत्व होगा ! कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्र