संदेश

अक्तूबर 8, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

SHIVPURI,RISHIKESH देशी और विदेशी TOURIST के लिए एक खूबसूरत जगह

चित्र

लद्दाख में अपने तरह का पहला ट्रेकिंग ट्रैनिंग कोर्स शुरू

चित्र
लद्दाख में पर्यटन के विकास के लिए इस क्षेत्र में यह अपने तरह का पहला पाठ्यक्रम है, जिसमें दस दिनों के प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में स्थानीय युवाओं को माउंटेन ट्रेकिंग के विभिन्न पहलुओं के बारे में प्रशिक्षित किया जा रहा है और उन्हें इसका व्यावहारिक अऩुभव प्रदान किया जा रहा है। पहले बैच में 30 से अधिक स्थानीय युवाओं को प्रवेश दिया गया है, जो  29 सितंबर, 2019 को शुरू हुआ। तीन बैचों में लगभग 90 स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम 12 अक्टूबर, 2019 को पूरे होंगे। संक्षिप्त विवरण के साथ ट्रेकिंग कार्यक्रम शुरू हुआ, जिसमें स्पीथु, थेन, जिनचेन, रूम्बाक, स्टॉक ला बेस, स्टॉक के भागीदार 10 दिनों में लेह पहुंचेंगे। युवाओं में ट्रेकिंग के मूलभूत कौशल विकसित करना इस प्रशिक्षण का लक्ष्य है। बाद में ये युवा गाइड अथवा उद्यमी बनने में इन कौशलों का उपयोग कर सकेंगे।   लद्दाख में पर्यटन के विकास के लिए केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रह्लाद सिंह पटेल के नेतृत्व में, भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय के भारतीय स्कीइंग एण्ड माउंटेनियरिंग संस्थान (आईआईएसएम) गुल

46 दल दिल्‍ली–एनसीआर में प्रदूषण की स्थिति का जायजा ले रहे हैं

चित्र
नयी दिल्ली - भारत स्‍टेज VI (बीएस VI) ईंधनों में व्‍यापक बदलाव लाने की दिशा में एक क्रांतिकारी कदम है। उन्‍होंने कहा कि वायु में मौजूद द्रव्‍य एवं ठोस सूक्ष्‍म कणों के उत्‍सर्जन में 80 प्रतिशत की कमी के साथ-साथ बीएस III मानकों की तुलना में बीएस IV भारी डीजल वाहनों से नाइट्रोजन ऑक्‍साइड के उत्‍सर्जन में भी 30 प्रतिशत की कमी आई है। बीएस VI ईंधनों को अपनाने पर लगभग 60,000 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।,'भारत अप्रैल 2020 से बीएस IV मानकों के बजाय बीएस VI वाहन उत्‍सर्जन मानकों को अपनाने लगेगा। बीएस VI मानकों वाला पेट्रोल/डीजल पहले से ही दिल्‍ली-एनसीआर में उपलब्‍ध है।' लगभग 17,000 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किये गये ईस्‍टर्न एवं वेस्‍टर्न पेरिफेरल एक्‍सप्रेसवे की बदौलत ऐसे 40,000 माल वाहनों का मार्ग अब राष्‍ट्रीय राजधानी से परे कर दिया गया है, जिनके रूट पर दिल्‍ली नहीं पड़ती है। इसका अत्‍यंत सकारात्‍मक असर प्रदूषण पर पड़ा है। केन्‍द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के प्रयासों से दिल्‍ली-एनसीआर (राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र) में पर्यावरण की दृष्टि से अब पहले की तुलना में कहीं ज्‍यादा 

ई-दंतसेवा वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्च:डिजिटल स्‍वास्‍थ्‍य की दिशा में एक महत्‍वपूर्ण कदम

चित्र
नयी दिल्ली - ई-दंतसेवा पहला राष्‍ट्रीय डिजिटल प्‍लेटफॉर्म है, जो वेबसाइट और मोबाइल ऐप के जरिये मुंह संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य की जानकारी प्रदान करता है। दांतों का खराब स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यक्ति के विकास के सभी आयामों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। दांतों का खोखला होना और समय-समय पर दांत संबंधी बीमारियां भारत के लोगों की आम शिकायत है। दांतों की संक्रामक बीमारियों से गंभीर रोग हो सकते है। एम्‍स तथा अन्‍य हितधारकों के सहयोग से मंत्रालय की यह पहल लोगों को मुंह संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में जागरूक बनाएगी। केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ई-दंतसेवा वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्‍च किये। मुंह संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य की जानकारी के लिए यह पहला राष्‍ट्रीय डिजिटल प्‍लेटफॉर्म है। डिजिटल स्‍वास्‍थ्‍य की दिशा में यह एक महत्‍वपूर्ण कदम है। वेबसाइट और मोबाइल ऐप के जरिेये ई-दंतसेवा 100 करोड़ लोगों तक पहुंचेगी। डॉ. हर्षवर्धन ने दृष्टिबाधितों के लिए ब्रेन पुस्तिका तथा वॉयस ओवर भी जारी किया। ई-दंतसेवा में राष्‍ट्रीय मुंह संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रम, सभी दंत कॉलेजों और सुविधाओं की सूची

RAMLILA in Pori Garwal UTTRAKHAND

चित्र

रावण जलता आ रहा ,जला न अब तक द्वेष

चित्र
रावण जलता आ रहा ,जला न अब तक द्वेष । मन का रावण मारकर ,शुद्ध करें परिवेश।।। लेखिका>सुषमा भंडारी मुश्किल है आसां नहीं बंटवारे की पीड़  चिड़िया ही बस जानती कैसे बनता नीड। । पुतले सारे जल गए, रावण मरा न एक राम बना ना एक भी रावण है प्रत्येक ।। अहंकार को  मार कर  मन को कर ले साफ  प्रभुराम को याद कर कर देंगे वो माफ।। सत्य सदा ही जीतता हारे सदा ही झूठ खुशियों की अब क्या कहें झूठ से जाती रूठ।।