संदेश

जनवरी 26, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दीक्षांत संस्था द्वारा निस्वार्थ एवं निःशुल्क कार्य अत्यन्त सराहनीय

चित्र
कानपुर - दीक्षांत सामाजिक संस्था द्वारा गोद लिए प्राथमिक विद्यालय किदवई नगर विद्या मन्दिर किदवई नगर कानपुर में स्वास्थ परीक्षण, आत्मरक्षा, शिक्षक,अभिभावक छात्र / छात्राओं ने उत्साह पूर्वक बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया साथ ही मतदाता शपथ कार्यक्रम सम्पन्न कराया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में क्षेत्रीय विधायक महेश त्रिवेदी ने प्राथमिक विद्यालय में अध्यनरत छात्र/छात्राओं के अभिभावकांे की समस्या को सुनकर उनके निवारण के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित करने हेतु जन सुनवाई के माध्यम से किया।  उन्होनेे कहा कि दीक्षांत संस्था द्वारा किये जा रहे निस्वार्थ एवं निशुल्क कार्य अत्यन्त सराहनीय है। इनके द्वारा किये जा रहे कार्य मन को प्रफुल्लित करते है और इसी प्रकार से समाज की अन्य संस्थाओं को विभाग तथा संस्था से सीख लेनी चाहिए। जन सुनवाई में अधिकांश समस्याए बिजली बिल, आवास तथा व्यक्तिगत स्वास्थ से सम्बन्धित थी। इस अवसर पर समाज कार्य विभाग कानपुर विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष डा0 सन्दीप कुमार सिंह ने शासन एवं शासन एवं राजभवन के निर्देशों के अनुरूप पढ़े कानपुर बढे कानपुर पर विस्तृत चर्चा की तथा

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के सभी स्कूलों में गणतन्त्र दिवस धूमधाम से मनाया गया

चित्र
नयी दिल्ली - दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के पश्चिमी क्षेत्रों के सभी स्कूलों में गणतन्त्र दिवस धूमधाम से मनाया गया । रजापुर खुर्द नम्बर स्कूल के कार्यक्रम की कुछ झलकियां । विद्यालय में अभिभावकों ने भी अध्यापकों के साथ मतदान करने की शपथ ली । रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों से नन्हे बच्चों ने सब का मन मोह लिया ।  क्षेत्रीय कार्यालय से विद्यालय निरीक्षक महेश चंद्रा ने कार्यक्रम में शिरकत की। प्रधानाचार्या व सभी  अध्यापक / अध्यापिकाओं व बच्चों ने बहुत मेहनत से कार्यक्रम को सफल बनाया।

एकता का मूलमंत्र ही गणतन्त्र है

चित्र
सुषमा भंडारी एकता का मूल मंत्र जान लो  भारती होने का तन्त्र जान लो । देश की लिये ही जीना मरना हो पूर्णतः स्वतन्त्र हो ये जान लो ।। शत्रु है वो देश का जो चाहता विनाश है ना ही उसकी धरती है ना ही आकाश है दुश्मनों से कर रहा मुकाबला जो बिन डरे गहरे अँधियारे का प्रकाश वो प्रकाश है।   एकता की' ढाल को सम्भाल लो प्यार को हृदय में तुम पाल लो। कोई कुछ बिगाड पायेगा नहीं दिल से नफरतोंं को तुम टाल लो।।