संदेश

जनवरी 16, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एक्टर अपने कैरेक्टर को पूरी ईमानदारी और लगन से नहीं निभाएगा तो कामयाब नहीं होगा : सुख रंधावा

चित्र
फिल्म और टीवी एक्टर सुख रंधावा ने छोटे पर्दे अपनी एक्टिंग का सफर शुरू करने वाले सुख रंधावा आज बॉलीवुड में भी अपनी पहचान बनाने में सफल हो गए हैं। सुख रंधावा पिछले 15 सालों से हिंदी सीरियल और फिल्म में अभिनय करते आ रहे हैं।  पंजाब के साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले सुख रंधावा के पिता आर्मी में होने की वजह से कई शहरों में इनका रहना हुआ। धीरे धीरे सुख रंधावा ने अपने पक्के इरादे,कड़ी मेहनत से फिल्म और टीवी स्क्रीन पर अपनी एक्टिंग के दम पर एक अलग पहचान बनाने में कामयाबी हासिल की। बॉक्सिंग के क्षेत्र में भी नाम कमा चुके सुख रंधावा टीवी सीरियल में लगातार 2005 से मनोरंजन कर रहे हैं। इनके हिंदी टीवी  सीरियल स्टार प्लस "चांद छुपा बादल में" ,क्वींस हैं हम,"वीराने" क्राइम पेट्रोल ,"सी आई डी" सावधान इंडिया जैसे हिंदी टीवी सीरियल में लोग इनकी प्रतिभा को देख और पसंद कर चुके हैं। इस के अलावा हिंदी फिल्म "टकीला नाइट" में सिविल कॉप का कैरेक्टर सुख रंधवा निभा चुके हैं। 2015 में भी हिंदी फिल्म "लव एक्सचेंज" राज शेट्टी के डायरेक्शन में बनी इस  इस फिल्म

वाघ बकरी चाय समूह भारत में अपना शताब्दी समारोह मना रहा है

चित्र
बाघ बकरी चाय समूह एक प्रीमियम चाय कंपनी है जिसकी 1892 से चाय के कारोबार में उपस्थिति है। वर्ष 1919 में, समूह ने भारत में गुजरात चाय डिपो नामक अपने भारत के ऑपरेशन के साथ प्रवेश किया, जिसने प्रतिष्ठित ब्रांड - वाघ का शुभारंभ किया। बकरी चाय ”। आज, यह 1100 करोड़ रुपये से अधिक के कारोबार के साथ भारत में तीसरी सबसे बड़ी पैकेज्ड चाय कंपनी है। और 40 मिलियन से अधिक के.जी. चाय वितरण का। समूह पूरे विश्व में चाय निर्यात और खुदरा उपभोक्ता उत्पादों में एक अग्रणी नाम है। दुनिया भर में वाघ बकरी चाय प्रेमियों की एक बड़ी संख्या के साथ, यह वास्तव में वैश्विक ब्रांड के रूप में उभरा है। कंपनी को गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में निर्विवाद रूप से बाज़ार में दक्षिण और उत्तर भारत में मजबूत उपस्थिति प्राप्त है और हाल ही में जम्मू और कश्मीर में भी लॉन्च किया गया है। बाघ बकरी चाय समूह  भारत में 100 साल का व्यापार मना रहा है। यह समूह भारत में तीसरी सबसे बड़ी पैकेज्ड चाय कंपनी है, जिसका कारोबार 1100 करोड़ रुपए का है और भारत और विदेशो के बाजार में इसकी मजबूती मौजूद है। समूह ने भारत में 'चाय लाउंज

सेना दिवस पर भारतीय सशस्त्र बलों के लिए फिल्म “बंकर” की विशेष स्क्रीनिंग

चित्र
नयी दिल्ली - भारत में सेना दिवस के अवसर पर, फिल्म डिवीजन दिल्ली में फिल्म “बंकर” की एक विशेष स्क्रीनिंग का आयोजन सेनाकर्मियों के लिए किया गया | विशेष स्क्रीनिंग में ब्रिगेडियर आर.आर सिंह उनका परिवार और ADGTA के 30 सैनिक शामिल थे | सिंह ने कहा, “फिल्म “बंकर” ने सैनिकों की भावनाए और उनके दिमाग में आनेवाले विचार अच्छी तरह बयान किया है ।” एक सैनिक ने कहा," यह एक अच्छी बात है कि फिल्म निर्माताओं ने फिल्म में परिवार को एक नायिका के रूप में दिखाया है, जो वास्तविकता है| बहुत जल्द रिलीज़ होने जा रही भारत की पहली एंटी-वार फिल्म ‘बंकर’, जिसका उद्देश्य लाखों सैनिकों की अनसुनी कहानियों को जन-जन तक पहुंचाना है। निर्देशक जुगल राजा की ‘बंकर’ लेफ्टिनेंट विक्रम सिंह (अभिनेता अभिजीत सिंह द्वारा अभिनीत) की एक ऐसी कहानी बताती है, जो जम्मू-कश्मीर के एलओसी स्थित पुंछ में एक गुप्त बंकर में एक घातक चोट के साथ जीवित बचे थे, जिसे युद्धविराम उल्लंघन के दौरान मोर्टार शेल से मारा गया था। फिल्म को कई फिल्म समारोहों में प्रदर्शित किया गया है और व्यापक रूप से सराहना मिली है। एक परोपकारी कदम के तहत फिल्म के निर्

कैंडर टेकस्पेस ने 6 महीने में 256 टन कार्बन डाई ऑक्साइड की बचत की

चित्र
भारत में बड़ी संख्या में पेशेवर काम कर रहे हैं, जिन्हें यदि सुविधा के स्तर पर समझौता किए बिना किफायती विकल्प प्रदान किया जाए तो वे निजी कारों और टैक्सियों से स्विच कर सकते हैं। कारपूलिंग एक गेम-चेंजिंग वैकल्पिक सॉल्युशन हो सकता है, जिसमें सालाना 22 बिलियन डॉलर तक की बचत होगी, जो ईंधन की खपत और मेंटेनेंस लागत में लग जाता है। क्विक राइड के साथ कैंडर का रणनीतिक जुड़ाव इस विजन को आगे बढ़ाएगा और सड़क पर यातायात की भीड़ और वाहनों के प्रदूषण को कम करने के मामले में कई भारतीय शहरों में नाटकीय बदलाव लाने की काफी संभावना है। नयी दिल्ली : जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण के खतरनाक स्तर से जूझते हुए ब्रुकफील्ड प्रॉपर्टीज द्वारा प्रबंधित कैंडर टेकस्पेस ने हाल ही में क्विक राइड के साथ साझेदारी की है। क्विक राइड भारत के प्रमुख राइड-शेयरिंग प्लेटफार्मों में से एक है और उसके साथ मिलकर गुरुग्राम, नोएडा और कोलकाता में अपने परिसरों में कर्मचारियों को हाइपर-लोकल कारपूलिंग सेवाएं उपलब्ध कराया जा रहा है। अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कैंडर टेकस्पेस ने इस बात पर प्रकाश डाला है कि 13,500 कर्मचारियों ने कारपूलिंग सेवाओं

गंगा यात्रा उत्तर प्रदेश के 27 जनपदों, 1038 ग्राम पंचायतों और 1650 राजस्व ग्रामों से गुजरेगी

चित्र
नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डाॅ. महेन्द्र सिहं ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से मुलाकात कर प्रदेश में 27 से 31 जनवरी के दौरान प्रस्तावित गंगा यात्रा की विषद रूपरेखा का रोचक प्रस्तुतिकरण करते हुए बताया कि प्रधानमंत्री की पावन प्रेरणा एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व में भव्य एवं दिव्य गंगा यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने गंगा यात्रा का रूट चार्ट प्रस्तुत करते हुए बताया कि 1199 किलोमीटर सड़क तथा 169 किलोमीटर जल मार्ग की यह यात्रा प्रदेश के 27 जनपदों, 1038 ग्राम पंचायतों और 1650 राजस्व ग्रामों से गुजरेंगी। उन्होंने यह भी बताया कि प्रथम यात्रा बिजनौर से कानपुर तथा द्वितीय यात्रा बलिया से कानपुर तक की होगी। इन यात्राओं का शुभारंभ राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री द्वारा किया जाएगा। इन यात्राओं में केन्द्रीय मंत्रीगण प्रदेष सरकार के मंत्रीगण एवं जिलों के प्रभारी मंत्री तथा क्षेत्रीय व स्थानीय जनप्रतिनिधिगण भी सम्मिलित होंगे। जल शक्ति मंत्री ने यात्रा के रात्रि निवास स्थलों एवं प्रदेश के विभिन्न विभागों द्वारा किए जाने वाले कार्यक्रमों की कार्ययो

Best Seller मतलब आपका लेखन पाठकों के करीब है

चित्र

युवा साहित्यकार को पठनशील होना चाहिए

चित्र

हिंदी युवा लेखन ऊर्जावान है

चित्र

डिज़िटल मीडिया कितना ही हावी हो जाए ,साहित्य का भविष्य उज्जवल है

चित्र