संदेश

मई 13, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विश्व भर के 65 से अधिक प्रतिनिधियों ने 17वीं लोकसभा चुनाव का अवलोकन किया

चित्र
नयी दिल्ली - पूरे विश्व के 20 देशों- ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, भूटान, बोस्निया और हर्ज़ेगोविना, फिजी, जॉर्जिया, केन्या, कोरिया गणराज्य, किर्गिस्तान, मलेशिया, मैक्सिको, म्यांमार, रोमानिया, रूस, श्रीलंका, सुरीनाम, संयुक्त अरब अमीरात, उज्बेकिस्तान और जिम्बाब्वे तथा इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर डेमोक्रेसी एडं इलेक्टोरल असिस्टेंस (आईडीईए) के चुनाव प्रबंधन निकायों (ईएमबी) के प्रमुख और प्रतिनिधि 17वीं लोकसभा के लिए चल रहे आम चुनावों का अवलोकन करने के लिए पहुंचे। चुनाव आगंतुकों के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भारत निर्वाचन चुनाव आयोग द्वारा 65 से अधिक ऐसे प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए गणतंत्र के प्रख्यापन से एक दिन पहले भारत निर्वाचन आयोग की स्थापना करने की भारतीय संविधान के जनकों की दूरदर्शिता और विज़न की सराहना की। अरोड़ा ने भारत के संविधान के अनुच्छेद 324 को उद्धृत करते हुए दोहराया कि भारत का निर्वाचन आयोग देश में स्वतंत्र, निष्पक्ष और मजबूत चुनाव सुनिश्चित करने के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि भारत

प्रथम अपाचे हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना को मिला

नयी दिल्ली - प्रथम एएच-64ई(I)-अपाचे गार्जियन हेलीकॉप्टर को औपचारिक रूप से अमेरिका के मेसा, एरिज़ोना में भारतीय वायु सेना को सौंप दिया गया। एयर मार्शल एएस बुटोला ने भारतीय वायु सेना का प्रतिनिधित्व करते हुए अमेरिका के बोइंग उत्पादन केंद्र में आयोजित एक समारोह में पहले अपाचे हेलीकॉप्टर को स्वीकार किया। भारतीय वायुसेना ने सितंबर 2015 में अमेरिकी सरकार और मेसर्स बोइंग लिमिटेड के साथ 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों के लिए एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे। इन हेलीकॉप्टरों के पहले जत्थे को इस वर्ष जुलाई तक  भारत भेजने की योजना है। भारतीय वायुसेना के चयनित वायु और थल कर्मियों ने अलबामा में अमरीकी सेना के बेस फोर्ट रकर में इसका प्रशिक्षण लिया है। प्रशिक्षण प्राप्त ये कर्मी भारतीय वायुसेना में अपाचे बेड़े का नेतृत्व करेंगे। एएच-64 ई (आई) हेलीकॉप्टर का भारतीय वायुसेना के हेलीकाप्टर बेड़े में शामिल हो जाना भारतीय वायुसेना के आधुनिकीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। इस हेलीकॉप्टर को भारतीय वायुसेना की भविष्य की आवश्यकताओं के अनुरूप बनाया गया है, खासतौर पर  पहाड़ी इलाकों में इसकी क्षमता महत्वपूर्ण होगी। ह

" न्यूज़ मीडिया महासंघ " पत्रकारिता तथा सामाजिक क्षेत्र में नए आयाम स्थापित करेगा

चित्र
जयपुर - सुश्री पुष्पा पांड्या द्वारा स्थापित न्यास " न्यूज़ मीडिया महासंघ " पत्रकारिता तथा सामाजिक क्षेत्र में नए आयाम स्थापित करेगा।  भारतीय ग्रामीण पत्रकार संघ के पूर्व अध्यक्ष एंव एसोसिएशन स्माल एंड मीडियम न्यूज़पेपर्स ऑफ इंडिया के पूर्व महामंत्री अशोक चतुर्वेदी  "वी द पीपल" जन सेवा ट्रस्ट की संस्थापक एंव अध्यक्ष मंजु सुराणा द्वारा पुष्पा पांड्या के सम्मान में दिए गए भोज के अवसर पर अपने विचार प्रकट कर रहे थे।  चतुर्वेदी ने पुष्पा पांड्या से अपने अल्पकालिक संपर्क को याद करते हुए उनके नव स्थापित महासंघ की गतिविधियों के सफल होने की शुभकामनायें दी और आशा की कि महासंघ अपने उद्देश्यों की पूर्ति में नए आयाम स्थापित करेगा।  चतुर्वेदी ने पुष्पा पांड्या द्वारा स्थापित लघु एंव मध्यम समाचार पत्रों के संगठन का भी उल्लेख करते हुए उनकी संगठन क्षमता की प्रशंसा की. जनसंपर्क विशेषज्ञ मधुकर डोरिया ने उनकी विभिन्न संस्थाओं में उनके योगदान को सराहा और जनसंपर्क के क्षेत्र में उनके कार्य को रेखांकित किया , पत्रकार सुभाष बंसल , भुवनेश टाक व महेश शर्मा ,एडवोकेट अमित तथा मनीषा सुराणा के