संदेश

अप्रैल 14, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बीरुपक्ष मिश्रा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के कार्यकारी निदेशक नियुक्त 

चित्र
मुंबई , बीरुपक्ष मिश्रा ने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के कार्यकारी निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण कर लिया है। इससे पहले, बीरूपक्ष मिश्रा कॉर्पोरेशन बैंक में कार्यकारी निदेशक थे। बीरुपक्ष मिश्रा स्नातकोत्तर और सर्टिफाइड एसोसिएट इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकर्स (CAIIB) हैं। उन्होंने अपने बैंकिंग करियर की शुरुआत वर्ष 1984 में एक प्रोबेशनरी ऑफिसर के रूप में की थी और उन्हें शाखा, क्षेत्रीय कार्यालयों और कॉर्पोरेट कार्यालय में विभिन्न प्रशासनिक और कार्यात्मक क्षमताओं में 35 से अधिक वर्षों का समृद्ध अनुभव है।  उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों में काम किया है और बैंक के क्रेडिट और क्रेडिट मॉनिटरिंग पोर्टफोलियो को संभाला है और बैंक के आईटी वर्टिकल का नेतृत्व भी किया है।

लॉकडाउन विस्तार के बीच निफ्टी 9,000 से नीचे; सेंसेक्स 469 अंक गिरा

चित्र
पिछले सप्ताह अपेक्षाकृत अच्छे प्रदर्शन के बाद भारतीय शेयर बाजारों ने कोई राहत नहीं दी. सेंसेक्स 1.5% या 469 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ, जबकि इसका एनएसई समकक्ष निफ्टी-50 भी 1.3% की गिरावट के साथ 9,000 अंक से नीचे आ गया। मोटे तौर पर बाजार के रुझान कोरोनावायरस लॉकडाउन के विस्तार की संभावनाओं पर आधारित रहे, जो देश में बढ़ते मामलों को देखते हुए अब अपरिहार्य लग रहा है। प्रथमेश माल्या, चीफ एनालिस्ट, नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजिल ब्रोकिंग लिमिटेड ने बताया कि   भारतीय इक्विटी बाजारों ने अन्य एशियाई बाजारों के शुरुआती संकेतों से लेत हुए सप्ताह के पहले दिन ट्रेडिंग की। कोरोनोवायरस प्रकोप के मामलों में कमी आने के बाद भी सभी एशियाई बाजारों में आज कमजोरी के संकेत मिले। पिछले हफ्ते जापान ने अपने व्यवसायों को चीन से बाहर शिफ्ट करने के लिए प्रोत्साहन पैकेज के तौर पर 243.5 येन का पैकेज दिया था। वैश्विक बाजार के भीतर बढ़ता टकराव अनिश्चितता का कारण बन रहा है क्योंकि चीन और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ रहा है। ये घटनाक्रम निवेशकों को थोड़ा आशंकित कर रहे हैं, और यह ट्रेडिंग पैटर्न हम निकट अवधि में दे

बुलियन सपोर्ट लेवल के पास और कच्चा तेल 5% तेज

चित्र
प्रथमेश माल्या, चीफ एनालिस्ट,नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजिल ब्रोकिंग लिमिटेड का कहना है कि पिछले हफ्ते दुनिया भर में कुछ दिलचस्प घटनाक्रम हुए। अब हम कोरोनोवायरस प्रकोप के कमजोर पड़ने की स्थिति देख रहे हैं और उद्योग के परिदृश्य में जल्द ही सुधार की उम्मीद है। चीन ने हुबेई प्रांत के बंद को भी खत्म कर दिया है और देश अब सामान्य स्थिति में लौट रहा है। तो आइए हम इस बात पर ध्यान दें कि कैसे इन घटनाओं ने कमोडिटी बाजार को प्रभावित किया है। बुलियन धातु  पिछले हफ्ते स्पॉट गोल्ड की कीमत 2.5 प्रतिशत अधिक पर बंद हुई थी। केंद्रीय बैंकों द्वारा वैश्विक प्रोत्साहन उपायों की उम्मीद के बीच बुलियन मेटल की कीमतों को अमेरिकी डॉलर इंडेक्स में गिरावट का समर्थन मिला। एमएक्ससी फ्यूचर्स ने जून फ्यूचर में 1% उछाल के बाद 45,800 रुपये प्रति 10 ग्राम जबकि सिल्वर फ़्यूचर मई में 0.4% की रैली के साथ 43,670 रुपए के साथ बंद हुआ।  इसके अलावा अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने पिछले हफ्ते बुधवार को अपनी पिछले महीने की पॉलिसी मीटिंग के मिनट जारी किए। यह मिनट दिखाते हैं कि यू.एस. फेड ने जोरदार पॉलिसी रेस्पांस की आवश्यकता को अनु

सेंसेक्स, निफ्टी 2% फिसला; बैंकिंग सेक्टर को हुआ भारी नुकसान

चित्र
लेखक - अमर देव सिंह, हेड एडवायजरी, एंजिल ब्रोकिंग लिमिटेड   अमेरिकी बाजारों के संकेतों को ध्यान में रखते हुए एशियाई शेयर बाजार ने आज बड़े पैमाने पर बराबरी से ट्रेडिंग की। हालांकि, सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में लगभग 2% की गिरावट दर्ज हुई। दिन के ट्रेड में सेंसेक्स 674 अंकों की गिरावट के साथ 27,590 अंक पर 2.39% नीचे बंद हुआ, जबकि निफ्टी 170 अंकों की गिरावट के साथ 8083 पर बंद हुआ।  कोरोनावायरस: तत्काल राहत के कोई संकेत नहीं  कोरोनावायरस दुनियाभर में कहर बरपा रहा है। अब तक एक मिलियन संक्रमणों के मनोवैज्ञानिक आंकड़ों को पार कर लिया है। डब्ल्यूएचओ सहित प्रमुख वैश्विक निकाय संकेत दे रहे हैं कि वायरस से तत्काल राहत नहीं मिल सकती है। भारत में चिंताएं विशेष रूप से बहुत ज्यादा हैं क्योंकि धार्मिक सभा और मजदूरों के व्यापक पलायन से संक्रमण के परीक्षण के परिणामों की प्रतीक्षा की जा रही है, जो भारतीय आंकड़ों में तेजी से वृद्धि कर सकते हैं। ईरान में पिछले 24 घंटों में एक ही मण्डली से जुड़े 2,700 से अधिक नए मामलों की पुष्टि हुई है। इसके बराबर या इससे भी अधिक संख्या में मामले हमारे देश में भी सामने आ स

भारतीय मुसलमानों से अपील रमजान के पवित्र महीने के दौरान लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करें

चित्र
नयी दिल्ली - हिन्दुस्तान में भी लाखों मस्जिद, दरगाहें, इमामबाड़े, ईदगाहे, मदरसे एवं अन्य धार्मिक स्थल है जहां रमजान के पवित्र महीने में इबादत, तराबी, इफ़्तार आदि का आयोजन होता है, जहां बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने की परम्परा रही है। लेकिन कोराना महामारी के मद्देनजर देश भर में लॉकडाउन, कर्फ्यू, सोशल डिस्टेंसिंग के दिशा-निर्देश केन्द्र एवं सभी राज्यों सरकारों द्वारा लागू किये गए हैं। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने अपील की, कि कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए 24 अप्रैल से शुरू हो रहे रमजान के पवित्र महीने के दौरान भारतीय मुसलमान, लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी ईमानदारी से पालन करते हुए अपने-अपने घरों पर ही इबादत करें। मुख्तार अब्बास नकवी, जो कि राज्यों के वक्फ बोर्डों की रेगुलेटरी बॉडी (नियामक संस्था) सेंट्रल वक्फ काउंसिल के चेयरमैन भी हैं। उन्होंने बताया कि राज्यों के विभिन्न वक्फ बोर्डों के अंतर्गत देश भर में 7 लाख से ज्यादा पंजीकृत मस्जिदें, ईदगाहें, इमामबाड़े, दरगाहें एवं अन्य धार्मिक संस्थान आते हैं। कोरोना महामारी के मद्दे

स्टैंज़ा लिविंग हर हफ़्ते दिहाड़ी मजदूरों और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को 5000 मील पैकेट बांटेगा 

चित्र
नयी दिल्ली : भारत की सबसे बड़ी शेयर्ड लिविंग कंपनी स्टैंज़ा लिविंग ने दिल्ली, बैंगलोर, पुणे, हैदराबाद और इंदौर में प्रत्येक सप्ताह 5000 मील पैकेट्स की आपूर्ति के लिए फूड डिस्ट्रिब्यूशन अभियान शुरू किया है। स्थानीय पुलिस अधिकारियों के साथ हाथ मिलाकर कंपनी लॉकडाउन में फंसे और संसाधनों की कमी से प्रतिकूलता का सामना  कर रहे लोगों को भोजन उपलब्ध कराएगी। स्टैंज़ा लिविंग अधिकारियों द्वारा चिन्हित क्षेत्रों में स्वच्छता से तैयार भोजन की आपूर्ति करेगी, जहां प्रवासी श्रमिकों और दिहाड़ी मजदूरों जैसे महामारी से प्रभावित लोगों की मदद की जा सकेगी। यह स्थानीय निकायों के ऑन-ग्राउंड स्टाफ, फ्रंटलाइन सिविल वर्कर्स और अन्य को भी भोजन उपलब्ध कराएगी। अपनी इस पहल के बारे में बात करते हुए स्टैंज़ा लिविंग के एमडी और सह-संस्थापक संदीप डालमिया ने कहा, “एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट के रूप में हमारा मानना है कि हमें कठिन समय में समुदाय के साथ देने के लिए अपने संसाधनों का लाभ उठाना चाहिए। हमारा फूड डिस्ट्रिब्यूशन अभियान इस दिशा में एक छोटी-सी कोशिश है ताकि हम सबसे कमजोर तबके और सीमित समर्थन के साथ जमीन पर लगातार काम

20+ शहर से बढ़कर 33 शहरों में सक्रिय हुई 'सबकी रसोई'

चित्र
नयी दिल्ली - लोगों की भारी मांग को देखते हुए 'सबकी रसोई' ने 20+ शहर से बढ़ाकर 33 शहर में जरूरतमंदों को भोजन मुहैया कराने का फैसला किया है।इसके तहत प्रतिदिन 1.50 लाख लोगों को भोजन उपलब्ध कराने का लक्ष्य था, लेकिन 'सबकी रसोई' के हेल्पलाइन नंबर 6900869008 पर आ रही लोगों की मांग को देखते हुए 1.50 लाख भोजन प्रतिदिन के लक्ष्य से अधिक अब 1.80 लाख से ज्यादा लोगो को भोजन प्रतिदिन उपलब्ध कराया जा रहा है।   I-PAC 7 दिन में ही 10 लाख से अधिक भोजन उपलब्ध करा चुकी है। अब तक पिछले 8 दिनों में देश के 33 शहरों में 11.94 लाख भोजन मुहैया कराया जा चुका है। अगर दिल्ली की बात करें, तो पिछले 8 दिनों में दिल्ली में 2 Lakh भोजन प्रदान किया जा चुका है। आईपैक ने सबकी रसोई पहल की शुरुआत 5 अप्रैल को की थी। इस पहल के तहत जरूरतमंदों को 10 दिनों में (14 अप्रैल तक) कम से कम 15 लाख ताजा भोजन (1.5 लाख प्रतिदिन) उपलब्ध कराना था।