दिल्‍ली और वाराणसी के बीच गोएयर की सीधी उड़ान शुरू


वाराणसी भारत की प्राचीन सभ्‍यता और संस्‍कृति का चेहरा है। 'धार्मिक घरेलू पर्यटक' यकीनन वाराणसी आते हैं, लेकिन साथ ही भारत की प्राचीन सभ्‍यता और संस्‍कृति का अनुभव करने और उसका अध्‍ययन करने के लिए अनेक विदेशी भी इस पवित्र शहर में जमघट लगाये रहते हैं। यहां की यात्रा से आगंतुक और भारत की समृद्ध विरासत और संस्‍कृति के बीच प्राकृतिक जुड़ाव पैदा होता है।


नयी दिल्ली - केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा है कि धार्मिक नगरी वाराणसी न केवल धार्मिक पर्यटन के लिए, बल्कि पर्यटकों के लिए भी सबसे पसंदीदा स्‍थलों में से एक है। पिछले पांच-छह वर्षों में, वाराणसी को सर्वोच्‍च स्‍थान प्रदान किया गया है, जिसका वह हकदार है।' उन्‍होंने दिल्‍ली से वाराणसी के लिए गोएयर की उद्घाटन उड़ान शुरू करते हुए यह बात कही। 


इस अवसर पर डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने एयरलाइंस प्रबंधन से कहा कि वह जम्‍मू से दिल्‍ली के लिए देर रात की उड़ान शुरू करने पर विचार करे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला