मजदूरों के जोग से दुनिया बनी महान


दुनिया के हर काम को,देते सदा अंजाम।                                                                                                             चाहे कोई कुछ कहे, लेते नहीं विराम ।                                                                                                             


इनके ही सम्मान की  बाते करते लोग।                                                                                                              इनके नहीं नसीब में,जीवन को ले भोग।


कहीं तोड़े पत्थर तो, कही तोड़ते हार।                                                                                                                 लाल तरस नही खाये,अजब गजब ब्यवहार।


पल-पल करते चाकरी ,रोटी खातिर रोज।                                                                                                           लाल जाने कब आये,जीवन में सुख भोग।


मजदूरों के जोग से दुनिया बनी महान।                                                                                                                चाहे बात विनाश की या हो फिर निर्माण।