मजदूरों के जोग से दुनिया बनी महान


दुनिया के हर काम को,देते सदा अंजाम।                                                                                                             चाहे कोई कुछ कहे, लेते नहीं विराम ।                                                                                                             


इनके ही सम्मान की  बाते करते लोग।                                                                                                              इनके नहीं नसीब में,जीवन को ले भोग।


कहीं तोड़े पत्थर तो, कही तोड़ते हार।                                                                                                                 लाल तरस नही खाये,अजब गजब ब्यवहार।


पल-पल करते चाकरी ,रोटी खातिर रोज।                                                                                                           लाल जाने कब आये,जीवन में सुख भोग।


मजदूरों के जोग से दुनिया बनी महान।                                                                                                                चाहे बात विनाश की या हो फिर निर्माण।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर