अल्पसंख्यकों को सरकारी स्कीमों का फायदा मिले : ज़ाकिर ख़ान

नयी दिल्ली = उत्तर पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद इलाके मे सौफिया एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसाइटी ने एक स्वागत का प्रोग्राम रखा जिसमे दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैंन ज़ाकिर खान, लेबर बोर्ड के चेयरमैन भूरे खान सैफी व् मुस्तफाबाद के विधायक हाजी मोहम्मद यूनुस मौजूद रहे आयोग के चेयरमैन ने लोगो को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम आयोग मे सोफिया जैसे संस्थाओं के साथ मिलकर नयी रूपरेखा  बनाकर अल्पसंख्यकों को ज्यादा से ज्यादा फायदा पहुँचाने का काम करने की कोशिश करेंगे उन्होंने कहा कि हम जमीनी स्तर पर रहकर काम करना चाहते है और हमारी कोशिश रहेगी कि ज्यादा से ज्यादा स्कीमों को घर घर तक पहुँचाया जाये



हाजी यूनुस ने कहा कि हम इलाके की समस्याओं को मिलकर हल करेंगे और हमारे इलाके का सुधार तभी संभव है जब हम अपने क्षेत्र का शिक्षा का स्तर ठीक कर दे चाहे उसके लिए हमे लाइब्रेरी खोलनी पड़े जिसमे बच्चे आकर अपनी तैयारी कर सके और सरकारी नौकरी प्राप्त कर सके , इलाके मे बाकी सभी काम जैसे सड़के , नाली , पानी आदि का काम जल्दी ही शुरू करवा दिया जायेगा , इलाके के लोगो  ने मुझ पर जितना भरोसा किया है आने वाले दिनों मे मैं आपको किसी शिकायत का मौका नहीं दूंगा व् आप सब के साथ मिलकर इलाके को संवारने का काम करेंगे


भूरे खान के कहा कि हम लेबर बोर्ड दिल्ली के 14 जिलों मे ट्रेनिंग के सेंटर खोलेंगे जिससे ज्यादा से ज्यादा युवाओं को रोजगार दिया जा सके और सोफिया के दिल्ली मे 8 ट्रेनिंग सेंटर है जिसमे हजारों बच्चो को पढ़कर उन्हें नौकरी दिलाने का काम किया जा रहा है तो लेबर बोर्ड भी सोफिया के साथ मिलकर जरूर स्किल की ट्रेनिंग के सेंटर खोलकर इनके अनुभव से लोगो को फायदा पहुँचाने ले लिए काम करेगा


संस्था के अध्यक्ष सुहैल सैफी ने सबको अपनी नई जिम्मेदारियों के लिए मुबारकबाद दी और अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन से कहा कि स्कीमों को जन जन तक पहुंचने के लिए अलग अलग इलाकों मे फैसिलिटेशन सेंटर खोले जाने चाहिए जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगो को स्कीमों का फायदा मिल सके और विधायक के इलाके मे शिक्षा के स्तर को बढ़ने के लिए दिल्ली सरकार से लाइब्रेरी खोलने का अनुरोध किया प्रोग्राम का संचालन मशहूर शायर दानिश अय्यूबी ने किया मास्टर शेर मोहम्मद, ज़ाकिर खान अधिवक्ता, रियाज़ , आसिफ चौधरी, मास्टर सलीम सैफी, मौलाना आकिल, मशहूर शायर नानपुरी, कारी एहरार, सद्दाम, जोगिन्दर , सर्वेश, अज़हर सैफी, वसीम सैफी, ताहिर सैफी, हाजी अनवर, रहीमुद्दीन सैफी आदि मौजूद रहे