कविता // ये कैसा अचरज है


विजय सिंह बिष्ट


कहो ये कैसा अचरज है।
कहीं जन्म की खुशियां,
कहीं मृत्यु का रुदन है,
कहीं बज रही शहनाइयां,
कहीं राम नाम शत् है,
कहो ये कैसा अचरज है।


कहीं बरसों से सूखा पड़ा है,
कहीं घरों में पानी घुसा है,
सड़कों में नावें हैं चलती,
तड़पते लोग, जवानी मचलती,
अज्ञात शत्रु कोरोना पीछे पड़ा है,
बिना अस्त्र के मिटाने में अड़ा है,
कहो ये अचरज कैसे खड़ा है।।


कभी खुशियों के ठहके थे लगते,
जवानी के गीतों के मेले थे लगते,
वहीं दिन रात मायूसी है छाई,
न जाने कहां से विपता है आई,
नहीं रोजी-रोटी न नौकरी न चाकरी,
महंगाई की अलग से बनी लाचारी,
कभी किसी की रात होती  है काली,
किसी की होती हर दिन दिवाली,
कहीं पतझड़ होती निराली,
कहीं महकती फूलों से डाली,
कहो ये कैसा अचरज भरा है।।


भूखे पेट कहीं रहना है पड़ता,
गर्मी हो या सर्दी सहना है पड़ता,
नहीं साथ , किसी का दूरी बनाए,
जियें या मरें चाहे कहीं छूट जाएं,
कहीं किसी को कोरोना छू न जाए,
अपना साथी भी न देख पाए।
अजब सी दास्तान है इसने बनाई,
कहो कैसी ये विपता है आई।


कराल काल था गला दबाए,
सांसें रुकी  थी मुंह लटकाए,
भयंकर इतना न कोई देख पाए,
अपनों से अपनों की दूरी बनाए,
कैसा भयंकर यह रोग आया,
इसने सारी दुनियां को रुलाया।
सदियों तक नहीं हम इसे भुल पायें,
चलो कोरोना को मन से भगायें।।
      


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

डॉ सुब्बाराव की पुण्यतिथि पर शिविरार्थियों ने मानसरोवर में निकाली सदभावना रैली

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा