टाटा ऑटोकॉम्प को पूरे हुए 25 साल  : 2025 तक 300 करोड़ यूएस डॉलर्स का लक्ष्य 

टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स दुनिया भर की लगभग सभी ऑटो ओईएम्स को सेवाओं और उत्पादों की आपूर्ति करती है। नए ईवी उद्यम के लिए भी कंपनी ने प्रभावी पोर्टफोलियो विकसित किया है। अनुसंधान और विकास, आधुनिकतम प्रौद्योगिकी और मज़बूत विनिर्माण प्रक्रिया में भी बड़े पैमाने पर निवेश करते हुए टाटा ऑटोकॉम्प वैश्विक स्तर पर ऑटो-कॉम्पोनेन्ट उद्यम की अग्रसर कंपनी बनने के लिए तैयार है।


नयी दिल्ली : वाहनों के कल-पुर्जें बनाने वाली भारत की अग्रसर कंपनी टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स ने 17 अक्टूबर को अपने 25 साल पूरे किए। कंपनी के रजतोत्सव के उपलक्ष्य में आयोजित किए गए वर्चुअल समारोह में दुनिया भर से 16000 से भी ज्यादा लोग उपस्थित थे, इनमें कंपनी के कर्मचारी, साझेदार, ग्राहक, आपूर्तिकर्ता और हितधारक शामिल थे।



टाटा ऑटोकॉम्प के संस्थापक चेयरमैन और टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन.रतन एन टाटा ने अपने संदेश में कहा है कि उन दिनों ऑटो इंडस्ट्री का प्रारंभ हो रहा था, इस उद्यम में प्रौद्योगिकी लेकर आ सकें ऐसी वाहनों के अधिकृत कल-पुर्जें बनाने वाली कंपनी वे भारत में शुरू करना चाहते थे। उन्होंने बताया कि भारत में निवेश के लिए वैश्विक स्तर की बड़ी कंपनियों को राज़ी करने में कई दिक्कतें आ रही थी। कई अंतरराष्ट्रीय ऑटो कॉम्पोनेन्ट कंपनियों के साथ साझेदारी के जरिए श्री टाटा ने टाटा ऑटोकॉम्प  सिस्टम्स लिमिटेड की मज़बूत नींव रखी। टाटा सन्स के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स की आज तक के सफर के लिए और टाटा समूह में योगदान के लिए प्रशंसा की।


इस विशेष अवसर पर टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स के एमडी अरविंद गोयल ने बताया, "पिछले 25 सालों में टाटा ऑटोकॉम्प ने स्थानीय कंपनी से वैश्विक कंपनी बनने तक का सफर सफलतापूर्वक तय किया है। अपने बिज़नेस और अग्रसर वैश्विक कंपनियों के साथ साझेदारी करके टाटा ऑटोकॉम्प ने अपने ग्राहकों को आधुनिकतम प्रौद्योगिकी प्रदान की है।" टाटा ऑटोकॉम्प के आजतक के प्रदर्शन की जानकारी देते हुए श्री गोयल ने यह भी बताया कि, ग्रुप चेयरमैन के निर्देशों और मार्गदर्शन के अनुसार सच्चाई, सादगी, सही तालमेल के साथ-साथ ग्राहकों की ज़रूरतों और मांगों के प्रति सहानुभूति, हितधारकों और आपूर्तिकर्ताओं के साथ समन्वय और प्रदर्शन को प्रोत्साहित करने वाली संस्कृति का मंत्र लेकर हम भविष्य में भी इस सफर को जारी रखेंगे। अपने प्रेरणादायी भाषण में गोयल ने बताया कि, "2025 तक 300 करोड़ यूएस डॉलर्स की कंपनी बनना हमारा लक्ष्य है।"


कंपनी का अभिनंदन करते हुए टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स के चेयरमैन प्रवीण कडले ने बताया, "पिछले कई सालों से टाटा ऑटोकॉम्प अपने ग्राहक और उत्पाद पोर्टफोलियो में लगातार वृद्धि कर रही है।  साथ ही टाटा बिज़नेस एक्सेलेंस मॉडल के तहत मज़बूत प्रणाली और प्रक्रियाएं निर्माण करने में भी कंपनी निवेश करती आ रही है।"