वी. के. सिंह, निदेशक (कार्मिक), पावरग्रिड को डॉक्टरेट की मानद उपाधि

० योगेश भट्ट ० ० 

नई दिल्ली,  वी. के. सिह, निदेशक (कार्मिक), पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (पावरग्रिड) को डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की गयी है। उनको यह उपाधि मानव पूंजी के विकास और प्रबंधन की दिशा में किये गए उनके असाधारण योगदान के लिए राजस्थान की सनराइज यूनिवर्सिटी द्वारा दी गयी है। वो पावर एचआर फोरम के नेशनल प्रेजिडेंट हैं और पीटीसी इंडिया एवं स्कोप के निदेशक मंडल के सदस्य भी हैं। सिंह की अगुआई में पावरग्रिड को देश-विदेश के कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है, जिसमें ग्रेट प्लेस टू वर्क, ग्लोबल सीएसआर पुरस्कार, बीएमएल मुंजाल अवार्ड फॉर एक्सीलेंस इन लर्निंग एंड डेवलपमेंट, डन एंड ब्रैडस्ट्रीट अवार्ड, ईटी बेस्ट प्लेस फॉर वीमेन टू वर्क इत्यादि उल्लेखनीय हैं। बहुमुखी प्रतिभा के धनी  सिंह मानव संसाधन एवं मैनेजमेंट विषयों के एक प्रखर वक्ता भी हैं और उन्होंने देश-विदेश के अनेक मंचों पर अपने विचार रखे हैं।

अपने 38 वर्षों के लम्बे करियर में यूएस बेस्ड एमएनसी, एनएचपीसी एवं पावरग्रिड में विभिन्न स्तरों पर काम करते हुए उन्होंने मानव संसाधन के सभी पहलुओं - समामेलन, टर्नअराउंड, कल्चर बिल्डिंग, क्षमता निर्माण जैसी प्रमुख परियोजनाओं का संचालन किया है। लर्निंग एंड डेवलपमेंट के क्षेत्र में उन्होंने अनेकों प्रतिष्ठित घरेलू और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ काम किया है. उन्होंने अफ्रीका, सार्क, सेंट्रल एशिया के विकासशील देशों के लिए मानव संसाधन विकास के अनेकों कार्यक्रमों की परिकल्पना एवं संचालन किया है। आज श्री वी. के. सिंह की गणना विश्व के सर्वश्रेष्ठ एच आर प्रोफेशनल्स में होती है।  सिंह दिल्ली विश्वविद्यालय से बी. कॉम और जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल सर्विसेज से मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट हैं।

टिप्पणियाँ