बुद्धिजीवी समाज के लोगो के साथ कार्यक्रम आयोजित कर समीक्षात्मक बैठक

० संत कुमार गोस्वामी ० 

बिहार -मशरक (सारण) मशरक प्रखंड अवस्थित अवध उच्च विद्यालय चैनपुर चरिहारा के प्रांगण में सारण स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के एम एल सी प्रत्याशी वीरेंद्र नारायण यादव ने बुद्धिजीवी समाज के लोगो के साथ कार्यक्रम आयोजित कर समीक्षात्मक बैठक किया ।कार्यक्रक की अध्यक्षता शिक्षाविद् व समाजसेवी चंद्रकेत नारायण सिंह ने किया वही मंच संचालन उच्च विद्यालय चैनपुर चरीहारा के प्रधानाचार्य महेश प्रसाद चौरसिया ने किया बैठक में स्नातक चुनाव को लेकर बुद्धिजीवी वर्ग के लोगो से विचार विमर्श किया गया। वीरेंद्र नारायण यादव ने आगामी स्नातक चुनाव को लेकर आज बैठक आयोजित की गई
जिसमे मुख्य रूप से समाजसेवी चंद्रकेत नारायण सिंह,पूर्व प्रधानाचार्य राजेंद्र प्रसाद सिंह कुशवाहा,जौहर सौफियावादी,कांग्रेस नेता केदारनाथ सिंह,शैलेश सिंह,जेडीयू के प्रखंड अध्यक्ष रामाधार सिंह ने इस बैठक में सर्वसम्मति से बुद्धिजीवी समाज के लोगो ने एक जुट होकर वीरेंद्र नारायण यादव के कार्यों को भूरी भूरी प्रसंसा की। वही पूर्व प्रधानाचार्य राजेंद्र प्रसाद सिंह कुशवाहा ने कहा की सारण स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के पद पर कई वर्षो से विशेष प्रतिनिधि का एक क्षत्र राज था जिसको वीरेंद्र नारायण यादव ने ध्वस्त करने का काम किया। क्षेत्र के समस्या को इनके द्वारा कई तरीके से सदन में इन्होंने उठाने का काम किया।

आगामी स्नातक चुनाव होने वाले इनके पक्ष में मतदान करने का इन्होंने अपील किया ।वीरेंद्र नारायण यादव ने कहा की मैं यहां वोट मांगने नहीं आया हूं बल्कि यह कहने आया हूं की जितने भी लोग ग्रेजुएट हो चुके है वह स्नातक चुनाव को लेकर फार्म नंबर 18 के माध्यम से वोटर लिष्ट मे नाम जोरवाने का काम करें और मुझे वोट देकर जीत दर्ज करने का काम करें ।अगर आपसबो के लिए अच्छा कार्य कर रहा हु तो मुझे चुने नही तो किसी और को चुने मौके पर बैठक में सैकड़ों गण्यमान्य लोग उपस्थित रहे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन