पेटीएम फाउण्डेशन और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने एयर क्वालिटी एक्शन फोरम की स्थापना की

० योगेश भट्ट ० 
नई दिल्ली । पेटीएम फाउण्डेशन ने संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) के साथ साझेदारी में एयर क्वालिटी एक्शन फोरम की स्थापना की। यह मंच, हितधारक परामर्श के माध्यम से, भारत में वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए किए गए प्रयासों पर प्रकाश डालेगा।एक्यूएएफ का शुभारंभ भारत में वायु प्रदूषण को रोकने की दिशा में एक समावेशी दृष्टिकोण की सुविधा के लिए एक कदम है। उसी दिशा में उठाए गए एक कदम के तहत, सरकार सहित सभी हितधारकों के बीच सहयोग के साथ प्रभावी कार्यान्वयन इसके तहत वांछित उद्देश्यों को प्राप्त करने के प्रमुख बिन्दू होंगे।

परामर्श बैठकों में से एक को सम्बोधित करते हुए, पेटीएम के फाउण्डर और सीईओ, विजय शेखर शर्मा ने कहा, हम सभी को भारत में वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए एक साथ आना चाहिए। फोरम कॉर्पाेरेट चैम्पियन बनाने की दिशा में काम करेगा। वायु गुणवत्ता मीटर को प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम का हिस्सा बनना चाहिए। उन्होंने इस बात की आवश्यकता भी प्रतिपदित की कि वायु प्रदूषण के स्तर के आधार पर राज्यों और शहरों की रैंकिंग के साथ ‘स्वच्छ भारत मिशन‘ के हिस्से के रूप में स्वच्छ वायु पहल को शामिल करने की आवश्यकता है। एक्यूएएफके उदे्श्यों के अनुरूप, सभी छह हितधारकों के बीच परामर्श बैठकें आयोजित की गईं, जिसका उद्देश्य भारत में वायु प्रदूषण से सम्बन्धित विभिन्न मुद्दों पर सभी के विचारों की पहचान करना और संभावित समाधान जो इसे कम कर सकते हैं पर चर्चा करना रहा।

विजय शेखर शर्मा को स्वच्छ वायू के लिए संयुक्त राष्ट्र के पर्यावरण संरक्षक के रूप में नामित किया गया है। यह पहल सामाजिक और पर्यावरणीय मुद्दों को दबाने के बारे में जागरूकता पैदा करके और सहयोगी भागीदारी के माध्यम से उन्हें कम करने के द्वारा संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण के वैश्विक ब्रीदलाइफ अभियान की वकालत करने के लिए पेटीएम की प्रतिबद्धता का हिस्सा है। परामर्श बैठकों से निकले कुछ समाधान :
- अभिनव समाधानों और उत्पादों के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की आवश्यकता है- स्थानीय समाधानों की प्रभावोत्पादकता और मापनीयता को समझने के लिए प्रायोगिक अध्ययन/परियोजनाओं को बढ़ावा देना - वायु गुणवत्ता प्रबन्धन और वायु गुणवत्ता माप मानकों के मानकीकरण के लिए मौजूदा ढांचे में स्वास्थ्य पहलुओं का एकीकरण

इन चर्चाओं से प्राप्त फीडबैक और सुझावों ने चुनौतियों, कमियों, जरूरतों और तालमेल के समाधान को समझने पर एक रिपोर्ट का मसौदा तैयार करने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। फोरम सम्मेलन में जल्द ही रिपोर्ट जारी की जाएगी। आईआईटी-डी में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर रिसर्च इन क्लाइमेट चेंज, (सीईआरसीए) को एक कार्यान्वयन भागीदार के रूप में शामिल किया जा रहा है। कई अन्य सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के संगठनों और डीटीयू जैसे प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थानों ने भाग लिया और परामर्श बैठकों की सफलता में योगदान दिया।

विचार विमर्श के दौरान राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आस-पास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबन्धन आयोग के सदस्य सचिव अरविंद नौटियाल,, सुधीर चिंतालपति, संयुक्त निदेशक, एमओईएफसीसी और डॉ प्रशांत गर्गव, सदस्य सचिव, सीपीसीबी ने भी सरकार की वायु प्रदूषण शमन के लिए उपक्रम पहल पर उपयोगी जानकारी प्रदान की है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन