निदेशक डीआईपीआर को ‘राजस्थान के प्रचलित लोक नृत्य’ पुस्तक की प्रथम प्रति भेंट


० आशा पटेल ० 
जयपुर । सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के निदेशक पुरुषोत्तम शर्मा को पूर्व संयुक्त निदेशक पन्नालाल मेघवाल ने ‘राजस्थान के प्रचलित लोक नृत्य’ पुस्तक की प्रथम प्रति भेंट की। सूचना एवं जनसंपर्क निदेशक ने मेघवाल के प्रयास की सराहना करते हुए शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर अतिरिक्त निदेशक अरुण जोशी, वित्तीय सलाहकार सुभाष दानोदिया, संयुक्त निदेशक शिव चंद मीणा, जनसंपर्क अधिकारी आशीष जैन, निजी सचिव रवि पारीक उपस्थित थे।लेखक पन्नालाल मेघवाल की इस पुस्तक में राजस्थान की कला एवं संस्कृति से जुड़े तेरहताली, घूमर, चरी, कालबेलिया, चकरी, भवाई, जसनाथी, धाकड़, गींदड, वीर तेजाजी, कच्छी घोड़ी, कथौड़ी, भील, गरासिया, गैर, चंग, बम, ढोल एवं शूकर लोकनृत्य सम्मिलित हैं। 

मेघवाल की इस पुस्तक में मांड, मांगणियार एवं लांगुरिया गायन, तुर्रा कलंगी, कुचामणि ख्याल एवं गवरी, लोकनाट्य, सहरिया एवं टूंटिया स्वांग, बीकानेर की रम्मतें, राजस्थान की नट परंपरा, कठपुतली नृत्य कला एवं लोक वाद्य यंत्रों का विषद उल्लेख है। पुस्तक में राजस्थान के लोकनृत्यों, लोकनाट्यों, लोकगायन एवं लोकवादन को आकर्षक छायाचित्रों के माध्यम से प्रकाशित किया गया है। यह पुस्तक राजस्थानी ग्रंथागार, जोधपुर से प्रकाशित हुई है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद