PM Modi ने 75 जिलों में 75 डिजिटल बैंकिंग का शुभारंभ किया : बैंक ऑफ़ बड़ौदा ने 8 डिजिटल बैंकिंग यूनिट खोली

० आशा पटेल ० 
मुंबई : भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष का उत्सव मनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 75 जिलों में 75 डिजिटल बैंकिंग यूनिट (डीबीयू) राष्ट्र को समर्पित की. इन 75 डीबीयू में से 8 डीबीयू भारत के प्रमुख सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में से एक, बैंक ऑफ बड़ौदा (बैंक) द्वारा खोली गई हैं. बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा ये 8 डिजिटल बैंकिंग यूनिट इंदौर, कानपुर देहात, करौली, कोटा, लेह, सिलवासा, वडोदरा और वाराणसी में खोली गई हैं.

डिजिटल बैंकिंग यूनिट में सभी सेवाएं डिजिटल, पेपरलेस और पूरी तरह से सुरक्षित तरीके से उपलब्ध करायी जाएंगी. अलग-अलग वर्ग के लोगों की जरूरतों और प्राथमिकताओं को पूरा करने के लिए डिजिटल बैंकिंग यूनिट दो माध्यमों से सेवाएं प्रदान करेंगी - 1) स्वयं-सेवा जोन और 2) डिजिटल सहायता जोन जिसमें सहायता प्राप्त सेवाएं प्रदान की जाएंगी. स्वयं-सेवा माध्यम के तहत दी जा रही डीबीयू सेवाएं वर्ष में 365 दिन 24x7 आधार पर उपलब्ध रहेंगी. इन सेवाओं में नकदी निकासी एवं जमा, खाता खोलना, सावधि जमा/ आवर्ती जमा खाता खोलना, डिजिटल ऋण प्राप्त करना, पासबुक प्रिंटिंग, शेषराशि संबंधी पूछताछ, निधि अंतरण और कई प्रकार की अन्य सेवाएं शामिल हैं.

बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री संजीव चड्ढा ने कहा कि “भारत सरकार के डिजिटल भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप आज शुरू की जा रही डिजिटल बैंकिंग यूनिट अधिक से अधिक लोगों को डिजिटल बैंकिंग उत्पादों और सेवाओं को सुविधाजनक और सुरक्षित तरीके से इस्तेमाल करने में मदद करेंगी और डिजिटल तरीके से वित्तीय साक्षरता और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी. बैंक ऑफ बड़ौदा में हमारी डिजिटल रूपांतरण प्रक्रिया जारी है और हमारी यह दूरगामी पहल डिजिटल बैंकिंग का लाभ हमारे देशभर के नागरिकों तक पहुंचना सुनिश्चित करेगी”.

बैंक ऑफ़ बड़ौदा के बारे में:
20 जुलाई, 1908 को सर महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ III द्वारा स्थापित, बैंक ऑफ़ बड़ौदा भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है. 63.97% हिस्सेदारी के साथ यह प्रमुख रूप से भारत सरकार के स्वामित्व में है. बैंक पांच महाद्वीपों में 17 देशों में फैले 46,000 से अधिक टचप्वाइंट के माध्यम से 150 मिलियन से अधिक के अपने वैश्विक ग्राहक आधार को सेवाएं प्रदान कर रहा है. अपने अत्याधुनिक डिजिटल बैंकिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से यह सभी बैंकिंग उत्पादों और सेवाओं को निर्बाध एवं बाधारहित तरीके से उपलब्ध करा रहा है. हाल ही में शुरू किया गया बॉब वर्ल्ड मोबाइल ऐप ग्राहकों को एक ही ऐप के अंतर्गत बचत, निवेश, उधार एवं खरीदारी का अनुभव प्रदान कर रहा है. 

यह ऐप वीडियो केवाईसी के माध्यम से खाता खोलने की सुविधा उपलब्ध कराकर गैर-ग्राहकों को भी सेवा प्रदान करता है. बैंक का दृष्टिकोण अपने विविध ग्राहक आधार के अनुरूप है तथा यह विश्वास एवं सुरक्षा की भावना पैदा करता है. बैंक उस दिशा में मजबूती से आगे बढ़ रहा है और बॉब वर्ल्ड डिजिटल परिवर्तन की दिशा में इसके रोडमैप का एक प्रमाण है.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद