राजस्थान ब्रजभाषा अकादमी की 37 साल बाद पहली बार स्थापना दिवस मनाये जाने का निर्णय

० आशा पटेल ० 
जयपुर। 28 नवम्बर को अकदामी की स्थापना के 37 साल बाद पहली बार स्थापना दिवस मनाये जाने का निर्णय किया है। यह दो दिवसीय कार्यक्रम 27 को परिसंवाद एवं 28 को जवाहर कला केंद्र में ब्रज की लोक मंचीय विधाओं पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर आधारित भव्य रूप में मनाया जायेगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मुख्य अथिति के लिए आमंत्रित किया गया है अध्यक्षता शिक्षा, कला साहित्य, संस्कृति एवं पुरातत्व मंत्री बी डी कल्ला करेंगे।  राजस्थान ब्रजभाषा अकादमी जयपुर द्वारा साधारण सभा एवं कार्य समिति की बैठक में लिए गएँ निर्णय के अनुसार अध्यक्ष डॉ रामकृष्ण शर्मा एवं सचिव गोपाल गुप्ता ने सलाहकार समिति की घोषणा कर सभी को पत्र जारी कर दिए हैं। 

सचिव गोपाल गुप्ता ने बताया कि करीब नौ साल के अंतराल के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कि पहल पर गठित अकादमी के कार्यों को द्रुत गति से सञ्चालन के लिए सलाहकार समिति का गठन किया गया है। समिति में ब्रज क्षेत्र से जुड़े अनुभवी लोगों को लिया गया है ताकि उनके अनुभवों का लाभ अकादमी को मिल सके। उन्होंने बताया कि सलाहकार समिति में लिए गए सभी सदस्य ब्रज क्षेत्र से जुड़े हुए अपने अपने कार्य क्षेत्र में सिद्धस्त हैं जिन्हे ब्रजभाषा के क्षेत्र में नवाचार कर ब्रज साहित्य के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कार्य करने एवं नवीन साहित्यकार तैयार करने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जाएगी।
 
कार्यक्रम ब्रज वंदना से प्रारम्भ होकर ब्रज रास, चरकुला, मयूर रास, फूल होली, लठमार होली, बम्ब रसिया एवं लांगुरिया के साथ शिव तांडव रास की प्रस्तुतियां के साथ संपन्न होगा। इससे पूर्व 25 नवम्बर को शिक्षा, कला साहित्य, संस्कृति एवं पुरातत्व मंत्री बी डी कल्ला के गृह क्षेत्र बीकानेर में अखिल भारतीय ब्रजभाषा कवि सम्मेलन का आयोजन बीकानेर के पब्लिक गार्डन स्थित रविंद्र रंग मंच पर रखा गया है जिसके मुख्य अथिति स्वयं बी डी कल्ला होंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद