भारत तिब्बत मैत्री संघ के साथ तिब्बत आजादी समर्थक मित्रों की बैठक

० आशा पटेल ० 
रीवा । भारत तिब्बत मैत्री संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ आनंद कुमार ने रीवा प्रवास के दौरान स्थानीय विभिन्न जन संगठनों , तिब्बत समर्थक समूहों की एक बैठक को संबोधित करते हुए तिब्बत की आजादी और भारत की सुरक्षा के सवाल पर विशेष बल दिया । डॉ आनंद ने कहा कि दुनिया में जहां आज अधिकांश देश आजाद हैं , वहां आजादी के दौर में तिब्बत का गुलाम बना लिया जाना दुनिया के आजादी के पक्षधरों के लिए बड़ी चुनौती का विषय है।

 उन्होंने तिब्बत मुक्ति साधना के काम को गतिशील बनाने की अपील की । इस अवसर पर भारत तिब्बत मैत्री संघ के प्रदेश अध्यक्ष अजय खरे , समाजसेवी श्रवण प्रसाद नामदेव , पूर्णानंद तिवारी , सेवानिवृत्त संभागीय खेल अधिकारी वीरेंद्र प्रताप सिंह परिहार , इंजीनियर सतीश दुबे , डॉ महेश , डॉ प्रकाश तिवारी , डॉक्टर शैलेंद्र कुमार सोनी , साहित्यकार मन संतोष क्रांतिवेश , दीपक गुप्ता एडवोकेट , सतीश कुशवाहा एडवोकेटआदि की सक्रिय भागीदारी रही ।

जय स्तंभ बचाओ अभियान के समर्थन में डॉ आनंद कुमार ने ऐतिहासिक जय स्तंभ पहुंचकर शाम 4:00 बजे दीप प्रज्ज्वलित करने के साथ अमर शहीदों , स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान में पुष्प माला अर्पित की। नारी चेतना मंच की ओर गुलदस्ता देकर डॉ आनंद कुमार का स्वागत किया गया । जय स्तंभ बचाने 75 दिनों तक लगातार संघर्ष चलाने वाले सत्याग्रहियों के धैर्य की सराहना करते हुए डॉ आनंद कुमार ने कहा कि आखिरकार संघर्ष रंग लाया । इस अवसर पर उन्होंने जयस्तंभ बचाओ आंदोलन के प्रमुख विंध्यांचल जन आंदोलन के नेता अजय खरे को शाल श्रीफल से सम्मानित किया ।

 कार्यक्रम में प्रमुख रूप से नारी चेतना मंच की वरिष्ठ नेत्री पूर्व अध्यक्ष मीरा पटेल , सुधा सिंह , माया सोनी , समाजसेवी श्रवण प्रसाद नामदेव , वीरेंद्र प्रताप सिंह परिहार , पूर्णानंद तिवारी , डॉ प्रकाश तिवारी , बृजवासी प्रसाद तिवारी , दीपक गुप्ता एडवोकेट , डॉ शैलेंद्र कुमार सोनी , बी के माला , सतीश कुशवाहा एडवोकेट आदि ने भाग लिया ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद