रोटरी इंटरनेशनल के अध्यक्ष पद पर पहली बार महिला नियुक्त

० योगेश भट्ट ० 

नई दिल्ली,- रोटरी क्लब ऑफ विंडसर-रोज़लैंड, ओंटारियो, कैनेडा की सदस्य, जेनिफ़र जोंस पहली महिला हैं, जिन्होंने 1 जुलाई को संगठन के 117 साल पूरे होने के अवसर पर रोटरी इंटरनेशनल के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभाला है। अपने एक साल के कार्यकाल में जोंस उन संगठनों के साथ नए संबंधों और गठबंधन के विकास पर केंद्रित होंगी, जो जनकल्याण के कामों द्वारा परिवर्तन लाने की रोटरी की प्रतिबद्धता साझा करते हैं। वो पूरे विश्व में नेतृत्वकर्ताओं के विकास के लिए काम करेंगी। उन्होंने विविधता, समानता, और समावेशन की रोटरी की प्रतिबद्धता को अपने अध्यक्ष पद के कार्यकाल का मुख्य हिस्सा बना लिया है।

 जोंस ने कहा, ‘‘विविधता लंबे समय से हमारा मुख्य सिद्धांत है और यह एक दूसरे एवं समुदायों के साथ हमारे व्यवहार का आधार स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रहेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं जानती हूँ कि एक महिला के रूप में मेरे अनुभव और परिदृश्य हमारे संगठन के लिए अवसरों व चुनौतियों को एक अलग दृष्टि प्रदान करेंगे। मुझे उम्मीद है कि मैं सभी पृष्ठभूमियों के नेतृत्वकर्ताओं के लिए समान अवसर उत्पन्न करने में उत्प्रेरक का काम करूंगी, जो हमारे संगठन की वैश्विक संरचना का निर्माण करते हैं। जब हम विश्व की सबसे गंभीर चुनौतियों को हल करने के लिए उन विविध परिदृश्यों को समझकर उनका उपयोग करेंगे, तो हम ज्यादा मजबूत बनेंगे, ज्यादा रचनात्मक बनेंगे, और ज्यादा प्रभावशाली बनेंगे।

एक प्रोफेशनल कम्युनिकेटर के रूप में 30 साल से ज्यादा समय के अनुभव के साथ, जोंस एक कहानीकार के रूप में अपनी व्यवसायिक सामर्थ्य का इस्तेमाल कर दुनिया में लोगों की जिंदगियों में सुधार करने और समुदायों को मजबूत करने के लिए रोटरी क्लब्स द्वारा किए जा रहे सकारात्मक कार्य एवं दीर्घकालिक प्रभाव पर रोशनी डालेंगी। जोंस ने कहा, ‘‘इस साल हम रोटरी सेवा प्रोजेक्ट्स को दुनिया में केंद्रीय मंच पर लाएंगे। हम अपने कार्यक्षेत्रों में सेवा के स्पष्ट, अत्यधिक प्रभावशाली कार्यों पर विशेष बल देंगे और रोटरी सदस्यों द्वारा किए जा रहे अभूतपूर्व प्रयासों की ओर दुनिया का ध्यान आकर्षित करेंगे।’’

 जोंस ने पूरे देश के अपने दौरे के बीच रोटरी इंटरनेशनल का अध्यक्ष पद ओटावा, कैनेडा में आधिकारिक रूप से ग्रहण किया। इमेज़ीन रोटरी कैनेडा के तहत, जोंस देश के एक कोने से दूसरे कोने तक का दौरा कर रही हैं, और इस सफर में 12 केंद्रों पर रुकते हुए स्थानीय अधिकारियों से मिल रही हैं, तथा उन परियोजनाओं में भाग ले रही हैं, जो खाद्य असुरक्षा, जलमार्गों में प्लास्टिक एवं कचरा, और मौसमी मजदूरों की सुरक्षा सहित गंभीर समस्याओं को हल करने के लिए काम कर रही हैं।

अध्यक्ष के रूप में इस साल जोंस रोटरी के प्रभावशाली कार्यों के आदर्श उदाहरणों का दौरा भी करेंगी। इस साल वो पूरी दुनिया में रोटरी सदस्यों और क्लब्स से मिलेंगी, तथा रोटरी की परियोजनाओं से सीख प्राप्त कर साझा करेंगी, जिनमें निम्न चीजों पर केंद्रण होगाःपाकिस्तान में पोलियो के उन्मूलन के प्रयासों में महिला स्वास्थ्य कर्मियों की महत्वपूर्ण भूमिका जाम्बिया में मलेरिया को कम करने में मदद करते हुए सामुदायिक स्वास्थ्यकर्मी के जीवन का एक दिन; ग्वाटेमाला में वंचित विद्यार्थियों के लिए शिक्षा में सुधार के लिए 600 रोटरी क्लब्स के प्रयास; पूर्व शरणार्थी, जो अब युगांडा में मैकेरेर यूनिवर्सिटी में रोटरी शांति केंद्र में रोटरी पीस फैलो है; दक्षिण प्रशांत में दूरदराज के द्वीपों में जीवनरक्षक वैक्सीन लेकर बच्चों तक पहुंचने वाले स्वास्थ्य कर्मी हाइती में सभी को साफ पानी, स्वच्छता और आरोग्य प्रदान करने के रोटरी के प्रयास।

 अध्यक्ष के रूप में जोंस पोलियो का उन्मूलन करने के रोटरी के मुख्य लक्ष्य का पर्यवेक्षण करेंगी। जोंस ने कहा, ‘‘जब हम अपने संपर्कों का उपयोग करेंगे, अपने संबंधों को गहरा करेंगे, और नए गठबंधन बनाएंगे, तो हमारे सामूहिक प्रयास पीढ़ियों की जिंदगी बदल सकते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पोलियो का उन्मूलन करने के हमारे प्रयास हमारे द्वारा उत्पन्न प्रभाव का सबसे शक्तिशाली प्रमाण हैं।’’ अपने वैश्विक पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम के साझेदारों के साथ, रोटरी ने पोलियो के मामलों में 99.9 प्रतिशत कमी लाकर दिखा दी और अपंग बनाने वाली 

इस बीमारी से 3 बिलियन से ज्यादा बच्चों को बचाने के लिए 2.4 बिलियन अमेरिकन डॉलर का योगदान दिया। आज लगभग 19.4 मिलियन लोग वैक्सीन की मदद से इस बीमारी से बचकर अपने पैरों पर चल रहे हैं, और 1.5 मिलियन लोगों की जान बचाई जा सकी है, जो अन्यथा मौत का शिकार हो जाते। पोलियो का उन्मूलन करने के लिए रोटरी की मदद से निर्मित इन्फ्रास्ट्रक्चर का उपयोग अब विश्व में लोगों को अन्य बीमारियों, जैसे इबोला, मलेरिया, और कोविड-19 से बचाने के लिए किया जा रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा