सर्व ब्राह्मण महासभा जयपुर शहर ने किया वृक्षारोपण

० योगेश भट्ट ० 

जयपुर । सर्व ब्राह्मण महासभा जयपुर शहर द्वारा खातीपुरा स्थित महाराणा प्रताप नगर में पीपल, बरगद, नीम, बिलपत्र सहित 211 पेड़ पौधे लगाये है।जयपुर शहर अध्यक्ष अनिल सारस्वत ने बताया कि प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी विद्वान पंडितों द्वारा विधि विधान से सर्व ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पं. सुरेश मिश्रा, प्रमुख ज्योतिषाचार्य पं. मुकेश भारद्वाज, विप्र कल्याण बोर्ड की उपाध्यक्ष मंजू शर्मा, महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष सविता शर्मा, जयपुर युवा संभाग अध्यक्ष दिनेश शर्मा , विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश शर्मा सहित सभी पदाधिकारियों ने पेड-पौधे लगाकर कार्यक्रम की शुरुआत की है।

सर्व ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पं. सुरेश मिश्रा ने कहा कि सर्व ब्राह्मण महासभा जयपुर टीम प्रत्येक वर्ष लगातार पेड़-पौधे का कार्यक्रम करती आ रही है साथ ही पेड-पौधे का मानव जीवन में बड़ा ही महत्व है। ये हमें न सिर्फ ऑक्सीजन देते हैं, बल्कि तमाम प्रकार के फल, फूल, जडी, बूटियाँ, और लड़कियां आदि भी देते है। घर के आसपास पौधरोपण करने से गर्मी, भू क्षरण, धूल आदि की समस्या से बचाते है। मिश्रा ने सभी पदाधिकारियों से पौधारोपण करने का आह्वान किया है साथ ही कहा कि पर्यावरण संतुलन के लिए जरूरी है कि प्रत्येक व्यक्ति पौधारोपण करें। जब भी हो सके अपनी सुविधानुसार एक पेड़ जरूर लगाएं, यह समाज के लिए आपकी व्यक्तिगत भागीदारी होगी की एक पौधा एक जिंदगी।

इस अवसर पर पार्षद गणेश सिंह, डीटीओ भवानी सिंह, पं. गणेश महाराज, पं. ओंकार शर्मा, जयपुर शहर महामंत्री मनोज मिश्र, उपाध्यक्ष विजय भास्कर, मनमोहन कौशिक, राकेश कौशिक, राजेश शांडिल्य, सतबीर भारद्वाज, पंकज सोडाला, हरीश मिश्रा, सूर्य शर्मा, उमाशंकर शर्मा, अशोक शर्मा, शयनोज मिश्रा, मनोज शर्मा, विक्रम सिंह राठौड़, पं. रामचरण शर्मा, श्याम शास्त्री, कैलाश गुरूजी, कैलाश विधानसभा, नीरज शर्मा, पवन, मयंक शर्मा, राहुल पंडित, नरेश आत्रेय सहित सभी लोग उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन