हरिद्वार प्राकृतिक गैस प्राइवेट लिमिटेड और सीएससी के बीच समझौता


० योगेश भट्ट ० 

नयी दिल्ली - हरिद्वार प्राकृतिक गैस प्राइवेट लिमिटेड और सीएससी के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है. समझौते के मुताबिक हरिद्वार जिले के नागरिक गैस रिफिल संबंधित बिल को पास के सीएससी केंद्र पर जमा कर सकते हैं.  मोहित भाटिया, सीईओ- हरिद्वार प्राकृतिक गैस प्राइवेट लिमिटेड ने इस अवसर पर कहा, “राज्य में सीएससी ने नागरिकों के जीवन में एक सराहनीय बदलाव किया है. वे सीएससी केंद्रों के माध्यम से अपने घर पर ही विभिन्न विभागों की सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम हैं, उदाहरण के लिए, जाति, आय, अधिवास, चरित्र प्रमाण पत्र, और रोजगार पंजीकरण, आदि. इन सेवाओं की मदद से, सीएससी ने राज्य के लोगों को ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में मदद करके एक उल्लेखनीय कार्य किया है.

 आज के समझौते के बाद के बाद नागरिकों को हरिद्वार प्राकृतिक गैस प्राइवेट लिमिटेड की ऑनलाइन सेवाएं सीएससी के जरिए उपलब्ध होंगी. ” सीएससी एसपीवी के एमडी डॉ. दिनेश त्यागी ने कहा, “वीएलई उत्तराखंड के पहाड़ी राज्य में अपनी कड़ी मेहनत के माध्यम से बदलाव ला रहे हैं। सीएससी देश की क्षेत्रीय, भौगोलिक, भाषाई और सांस्कृतिक विविधता को पूरा कर रहा है, इस प्रकार सामाजिक, आर्थिक और डिजिटल रूप से समावेशी समाज के सरकार के जनादेश को सक्षम बनाता है। आज राज्य की जनता को को सीएससी से काफी उम्मीदें हैं। ग्रामीण उत्तराखंड के सशक्तिकरण के मिशन को पूरा करने के लिए हमें कड़ी मेहनत करनी होगी.”

देवभूमि जन सेवा केंद्र (सीएससी) उत्तराखंड में विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक सेवाओं के वितरण के लिए पहुंच बिंदु हैं, उदाहरण के लिए, आवश्यक सार्वजनिक उपयोगिता सेवाएं, सामाजिक कल्याण योजनाएं, स्वास्थ्य सेवा, वित्तीय, शिक्षा और कृषि सेवाएं, नागरिकों को बी 2 सी सेवाएं ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में उपलब्ध हैं.कार्यक्रम के दौरान हरिद्वार नेचुरल गैस प्राइवेट लिमिटेड के राजेश अग्रवाल - सीएफओ, हरेंद्र गुप्ता - मुख्य प्रबंधक और सीएससी राज्य प्रमुख ललित वोरा भी मौजूद थे।

टिप्पणियाँ