लूट-पाट बढ़ती गई बापू तेरे बाद


सुषमा भंडारी


लूट-पाट बढ़ती गई 
बापू तेरे बाद।
हिंसा और झूठ अब 
होता क्यूं आबाद।।


किन्तु------


झूठ की आबादियाँ 
होती क्षण भंगूर ।
सत्य अटल हरदम रहा
झूठा होता चूर। ।


सत्य-अहिंसा आज भी
चले है अपने पाँव। 
झूठ झुलसता धूप में 
गाँव मिले न छाँव। ।


गांधी की तस्वीर पर
चढें सत्य के फूल।
सच्ची श्रद्धा है अगर
चुनें झूठ के शूल।।


सच्चाई की नाव ही
जाएगी भव पार।
शांत तूफाँ भी हुआ
सच की सुनी पुकार।।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला