संजय कुमार राकेश बने कॉमन सर्विस सेंटर के प्रबंध निदेशक

० योगेश भट्ट ० 
नयी दिल्ली संजय कुमार राकेश ने 2020 नवंबर में कॉमन सर्विस सेंटर के सीईओ का पदभार ग्रहण किया था. इसके लिए उन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा ( आईएएस ) से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली थी. वह 1990 बैच के आईएएस ऑफिसर हैं. मूल रूप से त्रिपुरा काडर के आईएएस अधिकारी रहे संजय कुमार राकेश अपने साथ 30 वर्ष का अनुभव लेकर कॉमन सर्विस सेंटर आए हैं. वह राज्य और केंद्र सरकार में विभिन्न पदों पर कार्यरत रहे हैं. कॉमन सर्विस सेंटर में पदभार ग्रहण करने से पहले वह त्रिपुरा सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव थे. उससे पहले वह सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय में संयुक्त सचिव पद पर कार्यरत थे.

 संजय कुमार राकेश , मुख्य कार्यकारी अधिकारी, ' कॉमन सर्विस सेंटर ' को नई जिम्मेदारी दी गई है. वह अब कॉमन सर्विस सेंटर के प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभालेंगे. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय में कॉमन सर्विस सेंटर की 52 वीं बोर्ड मीटिंग में यह फैसला किया गया. बैठक की अध्यक्षता अलकेश कुमार शर्मा सचिव सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने की. बैठक में कॉमन सर्विस सेंटर के प्रबंध निदेशक की नियुक्ति के अलावा वर्ष 2021 22 के वित्तीय स्टेटमेंट को भी स्वीकृति प्रदान की गई.

कॉमन सर्विस सेंटर के वित्तीय नतीजों के मुताबिक वर्ष 2021 22 में कॉमन सर्विस सेंटर कि आय 1804. 92 करोड रुपए रही है. जो पिछले वर्ष 1441. 82 करोड़ रुपए थी. कॉमन सर्विस सेंटर ने 141 करोड का शुद्ध मुनाफा कमाया है. जबकि पिछले वित्त वर्ष में यह आय 125 करोड़ रुपए थी. कॉमन सर्विस सेंटर ने 6% का लाभांश भी अपने शेयर होल्डर को देने का ऐलान किया है. जुलाई 2022 में देश भर में 5.33 लाख कॉमन सर्विस सेंटर कार्य कर रहे थे. इनमें से 74,500 का प्रबंधन ग्राम स्तरीय महिला उद्यमी करती हैं.

उनके निर्देश में मेक इन इंडिया योजना के तहत इलेक्ट्रॉनिक उत्पादन क्षेत्र में काफी कार्य हुआ था. उन्होंने ग्रामीण विकास मंत्रालय में भी अपनी सेवाएं दी हैं. जहां वह प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना और इंदिरा आवास योजना से संबंधित कार्य देखते थे. राकेश ने आईआईटी कानपुर से इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग में बीटेक किया है. जबकि गुड़गांव स्थित एमडीआई इंस्टीट्यूट से उन्होंने पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन पब्लिक पॉलिसी एंड मैनेजमेंट भी किया है.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन